23 सितंबर 2009

१५- यादों की गली में

यादों की गली में
बिखरा सब पड़ा है

धार में
अँसुवन की जो बह भी न पाया
बातें थीं स्वजन की तो
कह भी न पाया
मन की कली कोमल
काँटा सा गड़ा है

वह था
तेरा अहम या मेरा अभिमान
दरकता था दर्पण या
छूटा सम्मान
सोचते थे दोनो
जिद पे क्यों अड़ा है

--वंदना सिंह

8 टिप्‍पणियां:

  1. अलग अलग परिस्थितियों को एक साथ लिखा,
    एक अच्छी कविता के लिए बहुत बहुत बधाई, धन्यवाद

    विमल कुमार हेडा

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचना की गहरे में उतरने को दिल कर रहा है...
    बहुत गहरी रचना की है...
    बेहद अच्छे शब्द...
    मीत

    उत्तर देंहटाएं
  4. वह था
    तेरा अहम या मेरा अभिमान
    दरकता था दर्पण या
    छूटा सम्मान
    सोचते थे दोनो
    जिद पे क्यों अड़ा है
    sunder bhav
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  5. घर में ke sthan par..... dhar me asuwan ki..sahi hai kripya thik kar dijiye

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वह था
    तेरा अहम या मेरा अभिमान
    दरकता था दर्पण या
    छूटा सम्मान
    सोचते थे दोनो
    जिद पे क्यों अड़ा है

    बहुत प्रभावी पंक्तियाँ हैं। एक अच्छी रचना के लिये बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. chune hue navgeeto men yugboth ke swar smshit hain
    bahu t bahut badhaee.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।