10 नवंबर 2009

४- जगत के अज्ञान तम में

जगत के अज्ञान तम में
दीप अभिनन्दन तुम्हारा...

यदि तिमिर से जूझने का
प्रण लिये हो
ज्योति जल में डूब
अवगाहन किये हो
तो असंख्यक बार है
वन्दन तुम्हारा...

आखिरी दम तक दमन
तम का किया हो
जग किया आलोकमय
न भ्रम दिया हो
तो ॠणी है देश का
कण कण तुम्हारा...

--विपन्नबुद्धि

6 टिप्‍पणियां:

  1. इस नवगीत का दूसरा बन्द मुझे अच्छा लगा।
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आखिरी दम तक दमन
    तम का किया हो
    जग किया आलोकमय
    न भ्रम दिया हो
    तो ॠणी है देश का
    कण कण तुम्हारा...

    सनातन चिन्तक पंक्तियों हेतु अभिवादन. 'देश' के स्थान पर विश्व क्यों नहीं?

    उत्तर देंहटाएं
  3. पूरे गीत का भाव तो सुन्दर है ही किन्तु दूसरा बन्द इस गीत का केन्द्र बिन्दु है। बधाई।

    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut manbhavan bhav bhasha ka uttam sanyojan

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर नवगीत है विपन्नबुद्धि जी का .... यदि एक बंध और हो जाए तो फिर क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।