12 मार्च 2011

१३. अंतर्मन रंग आया

रंग अंतर में बरस रहा है
अंतर्मन रंग आया

श्वेत चुनरिया देखो कैसी
सतरंगी हो आयी,
गोरे गोरे गाल गाल पर
प्रेम की लाली छायी,

ये कैसा रंगरेज है जिसने
प्रेम का रंग लगाया

ढोल- धपाले गाजे - बाजे
सब ही तो बजते हैं
तुम बिन मीते!कब जाकर
ये अंतर्मन सजते हैं

हर पल बरसे नयनों में ये
कैसा रंग भराया

कितने रंग में महकी माटी
कितने सुमन खिलाये,
प्रेम रंग एक ऐसा जिसमें
हर एक रंग मिलाये

देख रंगों का रूप अनोखा
मन मेरा भर आया


--गीता पंडित

11 टिप्‍पणियां:

  1. रंग अंतर में बरस रहा है
    कैसा रंग लगाया ....

    वाह... वाह... उत्तम अभिव्यक्ति. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. रंग अंतर में बरस रहा है
    अंतर्मन रंग आया |


    श्वेत चुनरिया देखो कैसी
    सतरंगी हो आयी,
    गोरे गोरे गाल गाल पर
    प्रेम की लाली छायी,


    ये कैसा रंगरेज है जिसने
    प्रेम का रंग लगाया |


    ढोल- ढ्पाले गाजे - बाजे
    सब ही तो बजते हैं,
    तुम बिन मीते! कब जाकर
    ये अंतर्मन सजते हैं ,


    हर पल बरसे नयनों में ये
    कैसा रंग जगाया |


    कितने रंग में महकी माटी
    कितने सुमन खिलाये,
    प्रेम रंग एक ऐसा जिसमें
    हर रंग मिल कर आये,


    देख रंगों का रूप अनोखा
    सुर मेरा सज आया ||


    गीता पंडित




    ऊपर पंक्तियाँ आपस में मिल गयी हैं...
    पूर्णिमा दी ! इसे इस तरह कर दें अगर हो सके तो...
    आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  3. गीता जी की कलम से निकला एक और शानदार नवगीत, बहुत बहुत बधाई गीता जी को।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ढोल- ढ्पाले गाजे - बाजे
    सब ही तो बजते हैं,
    तुम बिन मीते! कब जाकर
    ये अंतर्मन सजते हैं ,


    हर पल बरसे नयनों में ये
    कैसा रंग जगाया |


    कितने रंग में महकी माटी
    कितने सुमन खिलाये,
    प्रेम रंग एक ऐसा जिसमें
    हर रंग मिल कर आये,
    सुंदर गीत अच्छे भाव
    बधाई
    रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. गीता जी को बधाई,सुन्दर गीत के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय सलिल जी.
    शन्नो जी.
    और धर्मेन्द्र जी...
    नवगीत पसंद करने के लियें आपकी आभारी हूँ...


    शुभ कामनाएँ
    गीता

    उत्तर देंहटाएं
  7. बंदबंद में मकरंद पिरोए इस गीत के लिए गीताजी आपको जितनी भी बधाईयां दूं कम पड़ती हैं । यह सिलसिला आगे भी जारी रहे हमारी यही चाहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कितने रँग में महकी माटी........ वाह क्या शानदार अभिव्यक्ति है, बहुत खूब| बधाई गीता जी|

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना जी,
    भारतेंदु जी..
    आपका आभार ..


    शुभ-कामनाएँ
    गीता .

    उत्तर देंहटाएं
  10. होली के अवसर पर सभी को
    हार्दिक मंगल कामनाएँ...

    गीता

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।