8 मार्च 2011

९. मुझसे वसंत के गीत नहीं गाए जाते

मुझसे बसंत के गीत नहीं
गाए जाते ओ मन।
मुझसे बसंत के गीत नहीं
गाए जाते ओ वन।।

कुछ देर डालियों पर ठहरो
पाती पर नाम लिखूँगा
अजनबी हवाओ, सखा साथियों
के तन मन पैठूँगा
धूँ धूँ जल रहे पहाड़ और
भाए भरमाये मन।

मुझसे इस अंत के गीत नहीं
गाए जाते ओ वन।
मुझसे बसंत के गीत नहीं
गाए जाते ओ मन।।

-कमलेश कुमार दीवान

6 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ देर डालियों पर ठहरो पाती पर नाम लिखूँगा अजनबी हवाओ, सखा साथियों के तन मन पैठूँगा धूँ धूँ जल रहे पहाड़ और भाए भरमाये मन।

    एक-एक शब्द भावपूर्ण ..... बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी लगी आपकी रचना . बधाई स्वीकारें - अवनीश सिंह चौहान .

    उत्तर देंहटाएं
  3. कमलेश जी का गीत बढ़िया है पर स्थायी जैसी बहुत सी पंक्तियाँ हैं और अंतरा एक ही है। एक अंतरा और होता तो अच्छा था। फिर भी अच्छा प्रयत्न है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरा भी आग्रह है कमलेश जी एक अंतरा और हो जाए।
    --पूर्णिम वर्मन

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये नवगीत तो पुराना है बहुत पहले पढ़ा था पर इसे नए अंदाज में प्रस्तुत करने के लिए कमलेश जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. बसंत पर मंडराते संकट को इतनी साफगोई से और गीतमय अभिव्यक्ति के लिए लाख लाख बधाई दीवान साहब।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।