7 अप्रैल 2011

७. क्या कहे सुलेखा

किससे अब
क्या कहे सुलेखा !

खनन माफ़िया
मिलकर लूटें
जल औ' जंगल
नित-नित टूटें
मेट रहे
कुदरत का लेखा !

बोली 'छविया'
धरा-दबोचा
नेता-मालिक
सबने नोंचा
समाचार
यह सबने देखा !

दुस्साहस-
क्रशरों का बढ़ता
चट्टानों से
चूना झड़ता
टूट रही
है जीवन रेखा !

अवनीश सिंह चौहान
(मुरादाबाद)

7 टिप्‍पणियां:

  1. चौहान जी आपने इस नवगीत के माध्यम से बहुत कुछ कह दिया है |बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस रचना में देश की दुर्दशा को स्वर मिला है। छविया और सुलेखा के साथ प्रकृति पर मानव के अत्याचारों को आवाज देने के लिये अवनीश जी को बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक अच्छे नवगीत के लिये बधाई स्वीकारें अवनीश जी।
    -पूर्णिमा वर्मन

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सटीक, संक्षिप्त और सुंदर नवगीत। अवनीश जी को हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अवनीश भाई सुलेखा को केंद्र में रख कर आप ने राष्ट्रीय सरोकारों को बखूबी उकेरा है, आप के इस नवगीत को पढ़ कर लगता है कि साहित्य के, आई मीन अच्छे साहित्य के प्रेमी आज भी मौजूद हैं, बस ज़रूरत है एक उचित मंच की जो कि पूर्णिमा जी ने उपलब्ध करा ही दिया है| इस बार तो कई सारे दिग्गजों को भी पढ़ने का मौका मिला| आप के इस नवगीत के लिए आप को बहुत बहुत बधाई|
    समस्या पूर्ति मंच पर आप का स्वागत है:- http://samasyapoorti.blogspot.com/2011/04/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको पढ़ना अच्छा लगा....
    सुंदर नवगीत के लियें ...

    बधाई अवनीश जी....

    उत्तर देंहटाएं
  7. कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक भाव को सुन्दर ढंग से संप्रेषित करने की कला में माहिर अवनीश जी को सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।