2 अक्तूबर 2011

६. दिन उत्सव के

दिन उत्सव के
दीप लिये हैं खड़े द्वार पर
उन्हें नमन है

जोत उन्हीं दीयों की
सबको उजियारेगी
लखमी मइया
सबके दुख-विपदा टारेगी

दिन उत्सव के
ड्योढ़ी-ड्योढ़ी दीप रहे धर
उन्हें नमन है

सूरज भी है
मेघों के घेरे से निकला
यही प्रार्थना
छँटे अँधेरा जो है पिछला

दिन उत्सव के
नेह रहे बो, साधो, घर-घर
उन्हें नमन है

यही दुआ है
ताल-कुएँ हों कभी न खारे
शोक-मोह जो रहे आसुरी
बीतें सारे

दिन उत्सव के
जगा रहे सुख सबके भीतर
उन्हें नमन है

-कुमार रवीन्द्र

8 टिप्‍पणियां:

  1. उत्सवधर्मिता को प्रकट करने वाला सुंदर गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सशक्त, सारगर्भित, सरल, सुंदर नवगीत है। बहुत बहुत बधाई कुमार रवींन्द्र जी को इस नवगीत के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  3. यही दुआ है
    ताल-कुएँ हों कभी न खारे
    शोक-मोह जो रहे आसुरी
    बीतें सारे

    दिन उत्सव के
    जगा रहे सुख सबके भीतर
    उन्हें नमन है
    अति उत्तम नवगीत के लिए बहुत बहुत बधाई
    सादर
    रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. जोत उन्हीं दीयों की
    सबको उजियारेगी


    एक आशावादी
    सुंदर नवगीत के लियें मेरी बधाईयाँ आपको

    सादर
    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  5. सरस सारगर्भित नवगीत हेतु साधुवाद.

    Acharya Sanjiv Salil

    http://divyanarmada.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. सरल, सरस और सुंदर नवगीत के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. सूरज भी है
    मेघों के घेरे से निकला
    यही प्रार्थना
    छँटे अँधेरा जो है पिछला

    दिन उत्सव के
    नेह रहे बो, साधो, घर-घर
    उन्हें नमन है

    कुमार रवीन्द्र जी बहुत सुंदर अभिव्यक्ति बधाई स्वीकारें इस सुंदर नवगीत के लिये
    प्रभुदयाल छिंदवाड़ा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।