6 दिसंबर 2011

७. अभिनन्दन नववर्ष तुम्हारा

अगवानी में यह जग सारा
अभिनन्दन नववर्ष तुम्हारा

गया बरस कुछ छला छला सा
कसमें झूठीं वादे टूटे
आहत जनता, मद में सत्ता
झूठ का परचम सच थे रूठे
नए बरस की नयी सुबह से
लाना तुम सुख का उजियारा

आशंका दैवी प्रकोप की,
और प्रलय की भविष्यवाणियाँ
ज्योतिष विद्या से ऊपर है
'समय' तुम्हारी मेहरबानियाँ
विश्वयुद्ध सा दैत्य विनाशक
पैदा ना हो अब दोबाराI

आज देश को बहुत ज़रूरत
धर्मों का ना हो टकराव
चमन देश का खिल कर महके
मसले सुलझे घटे तनाव
नए वर्ष में बढे निरंतर
जन जन के मन भाईचारा

-संध्या सिंह
लखनऊ से

16 टिप्‍पणियां:

  1. अगवानी में यह जग सारा
    अभिनन्दन नववर्ष तुम्हारा

    गया बरस कुछ छला छला सा
    कसमें झूठीं वादे टूटे
    आहत जनता, मद में सत्ता
    झूठ का परचम सच थे रूठे
    नए बरस की नयी सुबह से
    लाना तुम सुख का उजियारा

    बहुत ही सुंदर नवगीत है

    -त्रिलोक सिंह ठकुरेला
    आबू रोड
    e-mail- trilokthakurela@gmail

    उत्तर देंहटाएं
  2. अगवानी में यह जग सारा
    अभिनन्दन नववर्ष तुम्हारा

    गया बरस कुछ छला छला सा
    कसमें झूठीं वादे टूटे
    आहत जनता, मद में सत्ता
    झूठ का परचम सच थे रूठे
    नए बरस की नयी सुबह से
    लाना तुम सुख का उजियारा

    बहुत ही सुंदर नवगीत है

    -त्रिलोक सिंह ठकुरेला
    आबू रोड
    e-mail- trilokthakurela@gmail

    उत्तर देंहटाएं
  3. संध्या जी, अच्छा प्रयास किया है आपने। यहाँ पर छन्द बदल गया है, इस पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

    आज देश को बहुत ज़रूरत
    धर्मों का ना हो टकराव
    चमन देश का खिल कर महके
    मसले सुलझे घटे तनाव
    नए वर्ष में बढे निरंतर
    जन जन के मन भाईचारा

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. संध्या जी, अच्छा प्रयास किया है आपने। यहाँ पर छन्द बदल गया है, इस पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

    आज देश को बहुत ज़रूरत
    धर्मों का ना हो टकराव
    चमन देश का खिल कर महके
    मसले सुलझे घटे तनाव
    नए वर्ष में बढे निरंतर
    जन जन के मन भाईचारा

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-722:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  7. त्रिलोक सिंह जी,धर्मेन्द्र जी ,सदा जी ........बहुत बहुत आभार आपका मेरे आत्म बल को बढाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  8. सन्ध्या जी अच्छा नवगीत बनपड़ा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Purane varsh ki katutaa se aage badhkar nav varsh ke sundar aur safal abhinandan... bahut badhai aapko Sandhyaji...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सत्ता के मद में चूर राजनेताओं की लापरवाह उपेक्षा से,प्रकृति-काल के उपद्रवों से, युद्ध के विषाद धार्मिक उन्माद से विश्व-भर के जनसमुदाय को सुरक्षित बचाए रखने की मंगल-कामना से परिपूर्ण सुन्दर गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह, कितना सुन्दर वर्णन किया गया है नव वर्ष के आगमन का.....परन्तु साथ में बीत रहे वर्ष को भी भुलाया नहीं गया है.....दैवी प्रकोप, सत्ता मद, टकराव , जितने भी व्यंजक थे इस समय में, सभी को आपने अच्छे ढंग से निरूपित किया है....और साथ में नव वर्ष के आगमन में आशा और विश्वास झलकता है.....अत्यंत सुन्दर और मनभावन रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह, कितना सुन्दर वर्णन किया गया है नव वर्ष के आगमन का.....परन्तु साथ में बीत रहे वर्ष को भी भुलाया नहीं गया है.....दैवी प्रकोप, सत्ता मद, टकराव , जितने भी व्यंजक थे इस समय में, सभी को आपने अच्छे ढंग से निरूपित किया है....और साथ में नव वर्ष के आगमन में आशा और विश्वास झलकता है.....अत्यंत सुन्दर और मनभावन रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  13. डा.व्योम जी ह्रदय से आभारी हूँ गीत का विश्लेषण करने के लिए आपका सुझाव शिरोधार्य ....आगे बेहतर प्रयास करूंगी ...सादर प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  14. आशंका दैवी प्रकोप की,
    और प्रलय की भविष्यवाणियाँ
    ज्योतिष विद्या से ऊपर है
    'समय' तुम्हारी मेहरबानियाँ
    विश्वयुद्ध सा दैत्य विनाशक
    पैदा ना हो अब दोबाराI अति सुंदर भविष्य का सटीक चिंतन‌ प्रभुदयाल‌

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।