26 मार्च 2009

कुछ नवगीत


नवगीत की पाठशाला में जो नवगीत मिले हैं उन्हें ज्यों का त्यों यहाँ दिया जा रहा है। कुछ नवगीत बिना किसी नाम के भी मिले हैं उन्हें नहीं दिया जा रहा है। जो भी नवगीत भेजें उनके साथ अपना नाम अवश्य लिखें। इन नवगीतों को बाद में समीक्षा के साथ दिया जाएगा।

- संपादक

*****************************
पतझड़ की पगलाई धूप

भोर भई जो आँखें मींचे

तकिया को सिरहाने खींचे

लोट गई इक बार पीठ पर

ले लम्बी जम्हाई धूप !

अनमन सी अलसाई धूप !!

पोंछ रात का बिखरा काजल

सूरज नीचे दबा था आंचल

खींच अलग हो दबे पैर से

देह आँचल सरकाई धूप !

यौवन ज्यों सुलगाई धुप !!

फुदक फुदक खेले आंगन भर

खाने-खाने एक पांव पर

पत्ती-पत्ती आंख मिचौली

बचपन सी बौराई धूप !

पतझड़ की पगलाई धूप !!

-मानोशी

***************

हो दूर मुझ से, मेरे मन रे !

जिस पात्र में है भोग बनता

हरि-चरण पे वह न चढ़ता

सत्य जीवन के समझ ले

फिर चाहे जिस भी अगन चढ़ ले

चाहे जितने गीत गढ़ ले !

तप्त लोहा, ऊष्ण कंचन

दग्ध कण्ठ और प्रज्जवलित मन

पाषाण को ये प्रिय, समझ ले

फिर चाहे जो अभिशाप सर ले

हो दूर मुझ से, मेरे मन रे !

हो दूर मुझ से, मेरे मन रे !

-शार्दुला

***********************8

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर आपका हिंदी ब्लॉग जगत में स्वागत है .........

    उत्तर देंहटाएं
  3. मानोशी और शार्दूला जी के मन को मोहने वाली रचनाये हैं......
    बहूत ही सुन्दर..जीवन से भरी

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय कटारे जी,

    पतझड़ की धूप नवगीत को मैंने कुछ यूँ लिखा है- आपने पेस्ट करते समय जो दो अंतराओं के बीच में स्पेस दी है, वैसा मैंने नहीं सोचा था। कुछ यूँ है वो गीत-

    पतझड़ की पगलाई धूप

    भोर भई जो आँखें मींचे
    तकिये को सिरहाने खींचे
    लोट गई इक बार पीठ पर
    ले लम्बी जम्हाई धूप
    अनमन सी अलसाई धूप।

    पोंछ रात का बिखरा काजल
    सूरज नीचे दबा था आंचल
    खींच अलग हो दबे पैर से
    देह आँचल सरकाई धूप
    यौवन ज्यों सुलगाई धूप॥

    फुदक फुदक खेले आंगन भर
    खाने-खाने एक पांव पर
    पत्ती-पत्ती आंख मिचौली
    बचपन सी बौराई धूप
    पतझड़ की पगलाई धूप॥

    आपके समीक्षा के इंतज़ार में हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लोगिंग जगत में स्वागत है
    लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    http://www.rachanabharti.blogspot.com
    कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
    http://www.swapnil98.blogspot.com
    रेखा चित्र एंव आर्ट के लि‌ए देखें
    http://chitrasansar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।