26 मई 2010

२८ : मानव बना दानव : मंजु गुप्ता

मानव आज दानव है बना,
दानव की भाषा बोल रहा।

खेले गोली से फाग,
उजाड़ता है सुहाग।
टूटती हैं चूड़ियाँ
तरसती हैं राखियाँ।
मानव आज दानव है बना,
जहर आतंक का घोल रहा।

मासूमों को पता नहीं,
क्या है हमला आतंकी।
कितनों की जान जाती,
अपाहिज होती जिंदगी।
मानव आज दानव है बना,
इमान उसका है डोल रहा।
--
मंजु गुप्ता

2 टिप्‍पणियां:

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।