13 अप्रैल 2011

१३. सुनो ! सुनो ! ये समाचार है

सूखे पर्वत घटा बिरानी
मौसम भी लाचार है
सुनो ! सुनो ! ये समाचार है

सड़क ओढ़
पगडंडी सोए
उस पर सत्ता काँटे बोए
ज़ख़्मी आँचल
सपने खोए
ममता सिसके आँसू रोए

दिन निकालकर घूँघट घूमे
रात बिकी बाजार है
सुनो ! सुनो ! ये समाचार है

शब्द खेलते गुल्ली डंडा
कलम सिसकती रोती है
सच जब घायल
हो जाता है
रूह दर्द में खोती है

अंधा बहरा हुआ न्याय जब
सुनता कौन गुहार है
सुनो ! सुनो ! ये समाचार है

रचना श्रीवास्तव
(डलास यू.एस.)

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर कविता है।
    दिन निकालकर घूँघट घूमे
    रात बिकी बाजार है

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिन निकालकर घूँघट घूमे
    रात बिकी बाजार है
    सुनो ! सुनो ! ये समाचार है

    शब्द खेलते गुल्ली डंडा
    कलम सिसकती रोती है
    सच जब घायल
    हो जाता है
    रूह दर्द में खोती है

    अंधा बहरा हुआ न्याय जब
    सुनता कौन गुहार है
    सुनो ! सुनो ! ये समाचार है
    क्या खूबसूरती से गीत लिखा गया है |रचना जी आपको इस प्यारे से गीत के लिए बधाई और शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  3. Gunge Bahara hua hai shasan, Ham Andhe aur lachar hain.
    Suno suno ye samachar hai!
    Desh se dur
    Fir bhi kareeb.
    Badhai

    उत्तर देंहटाएं
  4. गीत तो अच्छा है ही, इसके बहाने टिप्पणीकारों में रमण कौल का नाम देखकर मन प्रसन्न हो गया जैसे पहले दर्जे के किसी सहपाठी से 25 साल बाद मिलने पर मिलकर होता है। बहुत दिनों से हिंदी में आपकी कोई नई रचना नहीं देखी। रमण जी बहुत अच्छी ग़ज़लें लिखते हैं कितना अच्छा हो कि नवगीत में भी आ जाएँ, स्वागत है। अभी कुछ नया आपके चिट्ठे पर देख रही हूँ लगता है कहानी है आराम से पढूँगी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut hi badhiya aur dil ko choo lenewali kavita hai. itnee sunder kavita se roob-roo karane ke liye purnimaji ka aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  6. रचना जी
    आपका यह गीत नवगीत की नई कहन का एक अच्छा उदाहरण है | सुदूर डलास में हमारे देश की चिन्ताओं की यह गूँज पूरी मानुषी अस्मिता को रेखायित करती है | साधु-साधु! इस सुंदर रचना हेतु | आपके नाम को सार्थक करे आपकी यह रचनाधर्मिता और नित नये आयाम प्राप्त करे, इसी स्नेहाशीष के साथ,
    आपका
    कुमार रवीन्द्र

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्द खेलते गुल्ली डंडा
    कलम सिसकती रोती है
    सच जब घायल
    हो जाता है
    रूह दर्द में खोती है

    अंधा बहरा हुआ न्याय जब
    सुनता कौन गुहार है


    वाह....आपको बहुत समय से पढ़ रही हूँ
    हमेशा अच्छा लग है आपको पढ़ना ....

    सुंदर नवगीत के लियें ...
    रचना जी ... बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  8. कितना खूबसूरत नवगीत है ! नई सोच , नए उपमान और आज के परिवेश को बहुत गहराई से उकेरने की कला । बहुत बधाई ! मंच पर सड़ी -गली तुकबन्दी करके क्षणिक प्रशंसा बटोरने वालों को ऐसी रचना पढ़कर कुछ तो सुधार करना चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना श्रीवास्तव जी को बहुत बहुत बधाई| सूखे पर्वत, गुल्ली डंडा और रात बिकी बाजार ने इस नवगीत में चार चाँद लगा दिए हैं| समस्या पूर्ति मंच पर आप का हार्दिक स्वागत है :- http://samasyapoorti.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिन निकालकर घूँघट घूमे
    रात बिकी बाजार है
    सुनो ! सुनो ! ये समाचार है
    रचना जी बहुत सुंदर नवगीत है सुंदर सटीक शब्दों को बहुत सुन्दरता से पिरोया है आपने हार्दिक बधाई
    सादर
    अमिता

    उत्तर देंहटाएं
  11. सूखे पर्वत घटा बिरानी
    मौसम भी लाचार है
    सुनो ! सुनो ! ये समाचार है
    पर्वतों का सूखना और मौसम की लाचारी समाचार बन रहा है. अच्छी सोच और लयात्मक अभिव्यक्ति आपके इस गीत को विशिष्ट बना देती है. इससे भी ज्यादा यह सुखद है कि अनिल जनविजय जी और पूर्णिमा वर्मन जी की तरह ही आप भी विदेशों में रहकर हिन्दी गीत को गा-गुनगुना रहीं हैं. बधाई स्वीकारें .

    उत्तर देंहटाएं
  12. हमेशा की तरह इस बार भी एक शानदार नवगीत लिखा है रचना जी ने, इसके लिए उन्हें हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप सभी के स्नेह शब्द सम्भाल के रख लिए हैं .इतने मान के लिए धन्यवाद कहना कम लग रहा है .
    बस उम्मीद करती हूँ कि आप सभी का आशीर्वाद ऐसे ही मिलता रहेगा .
    पूर्णिमा जी देखिये हमने हिन्दी को हिन्दी में ही लिखा है ठीक है न .आगे भी मै कोशिश करुँगी कि हिन्दी का दामन न छूटे.
    सादर
    रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. पूरे नवगीत की यह केन्द्रीय पंक्तियाँ हैं। बहुत सुन्दर नवगीत है।
    "सड़क ओढ़
    पगडंडी सोए"
    पंक्तियों को देखकर लगता है कि आपके अन्दर एक बहुत ही मँजा हुआ नवगीतकार कहीं छिपा हुआ बैठा है। भविष्य में इन पंक्तियों के स्तर का पूरा नवगीत पढ़ने की प्रतीक्षा रहेगी। सुन्दर नवगीत के लिए वधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  15. 'नवगीत की पाठशाला' में विलम्ब से आया। रचना श्रीवास्तव जी का नवगीत पढ़कर सचमुच भीतर से 'वाह' निकली, बहुत सुन्दर नवगीत है। रचना जी को बधाई, आपको भी कि आपने इतना सुन्दर नवगीत प्रकाशित किया।
    सुभाष नीरव

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरा भी स्वर सभी के साथ सम्मिलित माना जाय :)
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।