14 अप्रैल 2011

१४. ये है समाचार

संसद में सरकार
अदालत में तलवार
दोनों लाचार
ये है समाचार

मोहाली में हल्ला
सचिन का बल्ला
सोहैब बीमार
ये है समाचार

पाक से समीकरण
पी एम का निमंत्रण
गिलानी को स्वीकार
ये है समाचार

विकी लीक्स की मार
दोधारी तलवार
सब पर ही वार
ये है समाचार

- महेंद्र आर्य
(मुंबई)

9 टिप्‍पणियां:

  1. पूरे कथ्य को नवगीत में ढाल सकें तो फिर बहुत अच्छा नवगीत बन सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा प्रयास| आप के पास कहन का भण्डार है| डा. व्योम जी की बातों पर गौर करना चाहिए|
    समस्या पूर्ति मंच पर आप का स्वागत है:- http://samasyapoorti.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाव सुंदर हैं मगर यह एक कविता ही है गीत जैसा प्रवाह नहीं है। रचनाकार को कथ्य के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाव बहुत सुंदर हैं...
    बधाई महेंद्र जी..

    उत्तर देंहटाएं
  5. मित्रों की टिप्पणियां सर माथे ! भविष्य में नव-गीत ही प्रस्तुत करूंगा ! आभार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. महेन्द्र जी का स्वागत है पाठशाला में... अवश्य ही वे भविष्य में नवगीत के सशक्त रचाकार साबित होंगे। पहली रचना ही बढ़िया है और रचना व कथ्य की दृष्टि से सफल है लगता है वे नवगीत को भी अलग से समझ रहे हैं। अगली कार्यशाला में आपके एक जबरदस्त गीत की प्रतीक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।