20 अप्रैल 2011

१९. समाचार में हमने ढूँढा

खाली पेट
दम तोड़ गए जो
फुटपाथों पर
लेख विधि ने
था लिख क्या बाँचा
उन हाथों पर
समाचार में हमने ढूँढ़ा

दीप द्वारे
धर बाट निहारी
पर रात हुई
चौखट पर
रुक पिंघला था मन
बरसात हुई
अश्रुधार में हमने ढूँढ़ा

नदी तट पर
हम आ पहुँचे थे
विश्वासों पर
बन्दिश मिली
हमको भी अपने
ही साँसों पर
मझधार में हमने ढूँढ़ा

-रामेश्वर कांबोज हिमांशु
(नई दिल्ली)

4 टिप्‍पणियां:

  1. रचना तो सुंदर है पर गीत जैसा प्रवाह नहीं है। सुंदर रचना के लिए रचनाकार को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाव बहुत सुन्दर हैं हिमांशु जी....
    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छे विचार हैं पर नवगीत में जो लयबद्धता और रवानी चाहिये उसकी कुछ कमी लगी।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।