25 अप्रैल 2011

२५. समाचार है

समाचार है आज नेता शर्माने वाला है
सावधान रह जनता, भूकंप आने वाला है
मन मलीन कुल कुलीन भरमाने वाला है

लूट भर लिये घर अपने तोड़ जनतन के सपने
अब नये स्वप्न नये कलेवर में, सुनाने वाला है
मन मलीन कुल कुलीन भरमाने वाला है
समाचार है आज नेता शर्माने वाला है

हर वक्त इस जुगाड़ में शक्ति रहे सदा पास में
कपटी गोधुली बेला में सज्जित आने वाला है
मन मलीन कुल कुलीन भरमाने वाला है
समाचार है आज नेता शर्माने वाला है

जनार्दन का रुप धरकर शैतान चला तेरे पथ
कर सत्कार रख मन विकार, तरसाने वाला है
मन मलीन कुल कुलीन भरमाने वाला है
समाचार है आज नेता शर्माने वाला है
-विनोद बिस्सा
(रायपुर)

2 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे यह गीत बहुत ही पसंद आया है.
    समकालीन समस्याओं का क्या खूब चित्रण किया गया है. बहुत कुछ सीखने को मिला. मैंने भी कुछ ऐसा ही चित्रित करने का प्रयत्न किया था पर शायद गीत नहीं बन पाया.
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाव बहुत अच्छे हैं...
    आभार और शुभ-कामनाएँ ..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।