15 अक्तूबर 2011

१८. जगमग जोत जले

मन हो रहा प्रफुल्लित
घर में
जगमग जोत जले

आनंदित किलकारी भरती
नव संचित फुलझड़ियों सी
श्याम रात
चम चम करती है
उत्सव वाली लड़ियों सी
स्वप्न सजीले संचित
सुख समृद्धि की ओर चले

सुन्दर शाश्वत हो शृंगार
पूजा की फिर थाल संवार
राम राम नाम
की धुन को रटते
सारी विपदाएँ हों पार
लक्ष्मी चरण हों अंकित
जग से भय ओर क्रोध टले !

-नूतन व्यास
(गुड़गाँव)

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत - बहुत हार्दिक बधाई नूतन जी , बहुत सुंदर नवगीत है

    उत्तर देंहटाएं
  2. नूतन जी,
    बहुत सुंदर.
    हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वप्न सजीले संचित
    सुख समृद्धि की ओर चले
    .. बहुत सुंदर - शुभकामनायें नूतन जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. राम नम की धुन को रटते ..सारी विपदाएं हों पार ..बहुत अच्छा गीत

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर शाश्वत हो शृंगार
    पूजा की फिर थाल संवार
    राम राम नाम
    की धुन को रटते
    सारी विपदाएँ हों पार
    लक्ष्मी चरण हों अंकित
    जग से भय ओर क्रोध टले !
    सुंदर गीत
    बधाई
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  7. व्यास जी आपको इस गीत के लिये बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।