16 दिसंबर 2011

१६. शरद की जुन्हाई

अब शरद की जुन्हाई न परखो सखे
अब प्रकृति की लुनाई न ढूँढो सखे

ये शिशिर की ठिठुरती हुयी साँझ है-
पात पीले पड़े
डार सूनी हुईं
ये सिहरन, ये टप-टप, धुधलका, कुहासा
नियति रच रही नित्य नूतन तमाशा
सूर्य की अरुणिमा में ये क्या घुल गया-
दिन सुनहरे हुये
रात भी सुरमयी
है आहट ये माधमास-आगम सखे
औ' नये वर्ष का शुभ समागम सखे

फिर गमकने लगेंगे धरा और गगन-
पात फिर आयेंगे
डार होगी हरी
बाग वन वाटिका खेत बारी मगन
फिर मलय-गंध-युत होगा सन-सन पवन
गूँज कोयल की कुहकन की फैलेगी जब-
आम बौराएँगे
फाग होंगे कहीं
झाँकते ज्यों चुनर से हों 'गेसू' सखे
वस्त्र काशाय ओढेंगे टेसू सखे

-अनिल वर्मा
लखनऊ से

9 टिप्‍पणियां:

  1. झाँकते ज्यों चुनर से हों 'गेसू' सखे
    वस्त्र काशाय ओढेंगे टेसू सखे

    वाह... कितना सुंदर...

    क्या मैं इतनी स्तरीय कविता कभी भी लिख सकूँगा?!?

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर नवगीत है, अनिल वर्मा जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  4. "वस्त्र काषाय ओढेगेटेसू सखे "
    बहुत प्यारीपंक्ति |अच्छी लगी यह रचना |

    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  5. उन्नत भाषा शैली समेटे विचार ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तम द्विवेदी18 दिसंबर 2011 को 4:08 pm

    ये शिशिर की ठिठुरती हुयी साँझ है-
    पात पीले पड़े
    डार सूनी हुईं
    ये सिहरन, ये टप-टप, धुधलका, कुहासा
    नियति रच रही नित्य नूतन तमाशा
    सूर्य की अरुणिमा में ये क्या घुल गया-
    दिन सुनहरे हुये
    रात भी सुरमयी
    है आहट ये माधमास-आगम सखे
    औ' नये वर्ष का शुभ समागम सखे
    -- बहुत ही खुबसूरत, मन को गुनगुनाने वाले नवगीत के लिए वर्मा जी को बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।