15 फ़रवरी 2010

१- देखो वसंत आ गया : शास्त्री नित्यगोपाल कटारे

पीत पीत हुए पात, सिकुड़ी सिकुड़ी सी रात
ठिठुरन का अंत आ गया।
देखो वसंत आ गया।।

मादक सुगंध से भरी, पंथ-पंथ आम्र मंजरी
कोयलिया कूक कूक कर, इठलाती फिरे बावरी
जाती है जहाँ दृष्टि, मनहारी सकल सृष्टि
लास्य दिगदिगंत छा गया।
देखो वसंत आ गया।।

शीशम के तारुण्य का, आलिंगन करती लता
रस का अनुरागी भ्रमर, कलियों का पूछता पता
सिमटी-सी खड़ी भला, सकुचाई शकुंतला
मानो दुष्यंत आ गया।
देखो वसंत आ गया।।

पर्वत का ऊँचा शिखर, ओढ़े है किंशुकी सुमन
सरसों के फूलों भरा, मोहक वासंती उपवन
करने कामाग्नि दहन, केसरिया पहन वसन
मानो कोई संत आ गया
देखो वसंत आ गया।।
--
शास्त्री नित्यगोपाल कटारे

12 टिप्‍पणियां:

  1. "सुन्दर रचना"
    प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. peet peet hue paat,sikudi sikudi si raat
    thithuran ka ant a gayaa
    dekho vasant aa gayaa

    guruvar Shastri Nityagopal Katare kee ke in rasbhari panktiyon ke saath beshak basant aa gayaa.
    bahut bahut badhaee apko

    उत्तर देंहटाएं
  3. छा गया गया बसंत ....आपकी
    सुंदर रचना के साथ ही....सुस्वागतम...

    आहा !!

    केसरिया पहन वसन
    मानो कोई संत आ गया
    देखो वसंत आ गया।।


    बधाई आपको शास्त्री जी और
    शुभ-कामनाएँ


    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभारंभ!
    अति क्लिष्टारंभ!
    मधुकर का सोच जब अटक गया!
    मस्तिष्क की वीथियों में भटक गया!!
    भंगुरित कृदंत पा गया!
    अनुरणित वसंत आ गया!!

    --
    कह रहीं बालियाँ गेहूँ की - "वसंत फिर आता है - मेरे लिए,
    नवसुर में कोयल गाता है - मीठा-मीठा-मीठा! "
    --
    संपादक : सरस पायस

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति सुंदर!
    "सरसों के फूलों भरा,मोहक वासंती उपवन
    वसंत आ गया"


    कोकिल ने आम्र कुञ्ज मैं
    पंचम राग सुनाई --
    आज बसंत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर नवगीत है।
    इतनी सुन्दर रचना से वास्तव में बसन्त का आभास हो गया है।बधाई हो।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. धरती के कण-कण को वसन्तमय करती हुई एक उत्त्कृष्ट रचना है आपकी। और दुश्यन्त तथा सन्त की उपमा तो अनुपम है। बहुत बहुत धन्यवाद।
    सादर,
    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ! बहुत सुन्दर गीत है |
    बसंत आगमन का उल्लास पूर्णरूपेण झलकता है |

    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  9. सरस, सार्थक नवगीत. असम्यक शब्द संयोजन, अछूते प्रतीक, मौलिक बिम्ब, साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।