25 फ़रवरी 2010

११- आए हैं पाहुन वसंत के : यतीन्द्रनाथ राही

आए हैं,
पाहुन वसंत के
बगिया महकी है
बौराए हैं आम कुंज में कोयल कुहकी है।
बातों ही बातों में तुमने-
पृष्ठ पलट डाले
खुले चित्र-वातायन कितने
विविध रंग वाले
जिनमें हमने कभी लिखी थीं-
शहदीली रातें
कचनारों से पंख खोलकर
उड़ने की बातें
यादों के अंगार डाल टेसू भी दहकी है।

फूले सुर्ख सेमली दिन थे
महुआ भुनसारे
ऋतुपर्णा के अंग-अंग,
छवि-निखरे अनियारे
सरसों लाती मदनोत्सव के
जब पीले चावल
हो उठती वाचाल चूड़ियाँ
उद्दीपित पायल
कागा आया,
फिर मुंडेर पर चिड़िया चहकी है।

अंग-अंग निचुड़े रंगों से,
रस-धारों के दिन
उलझन-रीझ-खीझ-तकरारें
मनुहारों के दिन
अब कगार के वृक्ष
और ये-
लहरें मदमाती
टाँग खींचने दौड़ पड़ी है
नदिया उफनाती
दिन, हिरना हो गए निठुर पुरवैया बहकी है।
--
यतीन्द्रनाथ राही

10 टिप्‍पणियां:

  1. इस गीत की जितनी भी तारीफ की जाये
    कम ही होगी!
    बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह....वाह......

    नमन स्वीकार करें..



    बधाई....आपको

    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना! नवगीत की सीमा को स्पर्श करती हुई।
    अब कगार के वृक्ष
    और ये-
    लहरें मदमाती
    टाँग खींचने दौड़ पड़ी है
    नदिया उफनाती
    दिन, हिरना हो गए निठुर पुरवैया बहकी है।
    अच्छा है! लेकिन यह चित्र वसन्त का न होकर वर्षा ऋतु का बन रहा है मेरी समझ से।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. "आए हैं,
    पाहुन वसंत के
    बगिया महकी है ... ... ."
    --
    इतनी अच्छी शुरूआत के बाद
    सब कुछ अच्छा ही अच्छा!
    पढ़ता ही चला गया,
    आनंद की नदिया में बहता चला गया!
    --
    इतने अच्छे नवगीत का तो
    अंत ही नहीं होना चाहिए!

    उत्तर देंहटाएं
  5. "बातों ही बातों में तुमने-
    पृष्ठ पलट डाले
    खुले चित्र-वातायन कितने
    विविध रंग वाले
    जिनमें हमने कभी लिखी थीं-
    शहदीली रातें
    कचनारों से पंख खोलकर
    उड़ने की बातें
    यादों के अंगार डाल टेसू भी दहकी है " यह पँक्तियाँ बहुत मनभायीं ।
    वसन्त के आगमन को चित्रित करता एक सरस एवं मधुर नवगीत है आपका। धन्यवाद ।
    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर रचना के लिए बहुत बहुत बधाई
    धन्यवाद
    विमल कुमार हेडा

    उत्तर देंहटाएं
  7. "aaen hai pahun vasant ke "beshak manmeet ko rijhata hua ek ati sunder navgeet

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।