3 मार्च 2010

१७- फागुन रीता जाए ना : पूनम श्रीवास्तव


सुबह बसंती साँझ फागुनी
मौसम भीना भीना सा
इंतजार में तेरे साजन
फागुन रीता जाए ना

ऋतु बदली मलयानिल आई
सुबह शाम छाई तरुणाई
तेरे बिना एक पल भी अब
मेरे जी को भाए ना

संग सहेली इतराती हैं
मंद मंद होली गाती हैं
हँसी ठिठोली उनकी निसदिन
जबरन जिया जलाए ना

फगुनाहट की मधुर फुहारें
तन-मन पर कठिनाई वारें
भँवरा गुन गुन गुंजारों से
मन में तीर चुभाए ना।

--
पूनम श्रीवास्तव

8 टिप्‍पणियां:

  1. संग सहेली इतराती हैं
    मंद मंद होली गाती हैं
    हँसी ठिठोली उनकी निसदिन
    जबरन जिया जलाए ना

    फगुनाहट की मधुर फुहारें
    तन-मन पर कठिनाई वारें
    भँवरा गुन गुन गुंजारों से
    मन में तीर चुभाए ना।

    in panktiyon ne nihsandeh rango ki bauchhar kar di hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर रचना बहुत बहुत बधाई, धन्यवाद
    विमल कुमार हेडा

    उत्तर देंहटाएं
  3. संग सहेली इतराती हैं
    मंद मंद होली गाती हैं
    हँसी ठिठोली उनकी निसदिन
    जबरन जिया जलाए ना

    फगुनाहट की मधुर फुहारें
    तन-मन पर कठिनाई वारें
    भँवरा गुन गुन गुंजारों से
    मन में तीर चुभाए ना।
    banjar me anurag ke beej bonevaalaa ek anutha navgeet
    bas prem prag kee yeh bouchhad banae rakhie
    dhnyavaad

    उत्तर देंहटाएं
  4. पल-पल
    प्रतीक्षा साजन की
    कर रही सजाए प्रीत रात!
    आया वसंत, फागुन आया,
    आए साजन मधु हुई बात!
    अब करो मीत का मन महेश,
    तुम उसकी पारो बन जाओ!
    अब तो हँसकर तुम कुछ गाओ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सरस गीत. बासंती हुलास से मन को सराबोर कर गया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुबह बसंती साँझ फागुनी
    मौसम कैसे भाए रे
    इंतजार में तेरे साजन
    फागुन रीता जाए रे
    हँसी ठिठोली उनकी निसदिन
    जबरन याद सताए रे
    -पूनमजी
    बहुत सुंदर है यह मीठी मीठी चुभन!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वसन्त के सौन्दर्य से भीगा भीगा यह गीत अच्छा लगा। धन्यवाद तथा बधाई ।
    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।