20 अक्तूबर 2010

०२. महका-महका

महका-महका
मन-मंदिर रख सुगढ़-सलौना
चहका-चहका

आशाओं के मेघ न बरसे
कोशिश तरसे
फटी बिमाई, मैली धोती
निकली घर से
बासन माँजे, कपड़े धोए
काँख-काँखकर
समझ न आए पर-सुख से
हरसे या तरसे
दहका-दहका
बुझा हौसलों का अंगारा
लहका-लहका

एक महल, सौ यहाँ झोपड़ी
कौन बनाए
ऊँच-नीच यह, कहो खोपड़ी
कौन बताए
मेहनत भूखी, चमड़ी सूखी
आँखें चमकें
कहाँ जाएगी मंजिल
सपने हों न पराए
बहका-बहका
सम्हल गया पग, बढ़ा राह पर
ठिठका-ठहका
--
संजीव सलिल

8 टिप्‍पणियां:

  1. एक महल, सौ यहाँ झोपड़ी
    कौन बनाए
    ऊँच-नीच यह, कहो खोपड़ी
    कौन बताए
    बहुत अच्छा लिखा है आपने....गहरे अर्थ हैं इन पंक्तियों के....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर रचना एक बार फिर आचार्य जी की कलम से। बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आशाओं के मेघ न बरसे
    कोशिश तरसे
    फटी बिमाई, मैली धोती
    निकली घर से
    बासन माँजे, कपड़े धोए
    काँख-काँखकर
    समझ न आए पर-सुख से
    हरसे या तरसे
    दहका-दहका
    बुझा हौसलों का अंगारा
    लहका-लहका
    bahut khoob aap ka likha sadaev hi sunder hota hai
    bahut bahut badhai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  4. सम्‍पूर्ण गीत दिल की गहराईयों तक अपनी मधुर झंकार से सिक्‍त कर गया । हर पंक्ति लाजवाब । साधुवाद आदरणीय संजीव सलि‍ल जी । प्रणाम ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका आभार शत-शत...

    लख मयंक की छटा अनूठी
    सज्जन हरषे.
    नेह नर्मदा नहा मोनिका
    रचना परसे.
    नर-नरेंद्र अंतर से अंतर
    बिसर हँस रहे.
    हास-रास मधुमास न जाए-
    घर से, दर से.
    दहका-दहका
    सूर्य सिंदूरी, उषा-साँझ संग
    धधका-दहका...

    ***************

    उत्तर देंहटाएं
  6. काँख-काँख कर, ऊँच-नीच यह कहो खोपड़ी अच्‍छा प्रयोग किया है। नवगीत के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आशाओं के मेघ न बरसे
    कोशिश तरसे
    फटी बिमाई, मैली धोती
    निकली घर से
    बासन माँजे, कपड़े धोए
    काँख-काँखकर
    समझ न आए पर-सुख से
    हरसे या तरसे
    दहका-दहका
    बुझा हौसलों का अंगारा
    लहका-लहका
    बहुत ही सुन्दर रचना
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।