24 अक्तूबर 2010

०४. मन मेरा भी महक उठा

भर ख़ुशियों से चहक उठा
मन मेरा भी महक उठा

सूरज ने जब डाले पर्दे
धूप न जाने कहाँ चली
बाँधे गाँठ
हवाओं के सँग
मौसम महके गली-गली

बदली ऋतु तो
कण-कण में सुख
हौले-हौले चहक उठा
मन मेरा भी महक उठा


किरण खिली गदराए पेड़
वन में खग-मृग आतुर विचरे
आँचल पर
आकाशी तारे
ज़रदोज़ी से निखरे-निखरे

कुसमित पवन
सजाए दीपक
नभ में चंदा दमक उठा
मन मेरा भी महक उठा
--
रचना श्रीवास्तव

11 टिप्‍पणियां:

  1. सूरज ने जब डाले पर्दे
    धूप न जाने कहाँ चली
    बाँधे गाँठ
    हवाओं के सँग
    मौसम महके गली-गली

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँचल पर
    आकाशी तारे
    ज़रदोज़ी से निखरे-निखरे

    वाह.. वाह... सरस गीति रचना... बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. विमल कुमार हेड़ा।25 अक्तूबर 2010 को 8:10 am

    किरण खिली गदराए पेड़
    वन में खग-मृग आतुर विचरे
    आँचल पर
    आकाशी तारे
    ज़रदोज़ी से निखरे-निखरे
    बहुत ही सुन्दर रचना के लिये रचना जी को बहुत बहुत बधाई, धन्यवाद।
    विमल कुमार हेड़ा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बदली ऋतु तो
    कण-कण में सुख
    हौले-हौले चहक उठा
    मन मेरा भी महक उठा


    किरण खिली गदराए पेड़
    वन में खग-मृग आतुर विचरे
    आँचल पर
    आकाशी तारे
    ज़रदोज़ी से निखरे-निखरे
    वाह.. वाह रचना श्रीवास्तवजी
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर रचना!
    --
    मंगलवार के साप्ताहिक काव्य मंच पर इसकी चर्चा लगा दी है!
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर कल्पना से महकते हुए मनमोहक नवगीत के लिए रचना आपको हार्दिक बधाई।

    किरण खिली गदराए पेड़
    वन में खग-मृग आतुर विचरे
    आँचल पर
    आकाशी तारे
    ज़रदोज़ी से निखरे-निखरे --बहुत ही अच्छी कल्पना है


    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  7. aap sabhi ke sneh shbdon ke liye kya kahun shbd nhai mil rahe .bahut bahut dhnyavad
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  8. rachanaji
    bahut acchaa likhatin hain aap.badhaaii

    Prabhudayal Shrivastava

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना श्रीवास्तव जी ने इन पंक्तियों में जो सहज भाषा प्रयोग की है , वह नवगीत में नए रंग भरने में सक्षम है । ।रामेश्वर काम्बोज

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।