31 दिसंबर 2010

१८. नये साल को शत-शत वंदन

नये साल के
नये सूर्य का
शत-शत वंदन
घर-घर में
फैले उजियारा
बहे प्रेम की
अविरल धारा
राग-द्वेष
मिट जाय धरा से
रहे कहीं ना
रुदन-कंदन

सोन-चिरैयाँ
चह-चह चहके
दिग-दिगंत
घर-आँगन महके
दुख-दारिद्रय
मिटे अग-जग से
खुशियाँ करें
यहाँ पर नर्तन

पंख लगे
सबके सपनों को
नज़र लगे ना
चंदन वन को
सगुन बधावा
बाजे चहुँ दिश
सोन किरिन का
हो अभिनंदन

कृष्णानंद कृष्ण

6 टिप्‍पणियां:

  1. नया वर्ष आप के ओर आप के परिवार के लिये सुख मय हो ओर देश भर मे खुशियां के कर, सुख ले कर आये, मेरी शुभकामनाऎं आप सब के संग हे!! मेरा यह नये साल का उपहार आप सब के लिये हे..
    http://blogparivaar.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...आभार...

    नव वर्ष की आप सभी को शुभ कामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. विमल कुमार हेड़ा।3 जनवरी 2011 को 8:09 am

    नवगीत पाठशाला के साथ साथ सभी को नव वर्ष की बधाई एवं शुभ कामनाये।

    नये साल के
    नये सूर्य का
    शत-शत वंदन
    घर-घर में
    फैले उजियारा
    बहे प्रेम की
    अविरल धारा
    अति सुन्दर कृष्णानंद जी को बहुत बहुत बधाई,
    धन्यावाद।
    विमल कुमार हेड़ा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पंख लगे
    सबके सपनों को
    नज़र लगे ना
    चंदन वन को
    सगुन बधावा
    बाजे चहुँ दिश
    सोन किरिन का
    हो अभिनंदन
    kash aap ki ummid puri ho
    achchha likha hai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।