15 फ़रवरी 2011

११. होते सारे काम सड़क पर

नामी या बेनाम सड़क पर
होते सारे काम सड़क पर

जब देश लूटता राजा
कोई करे
कहाँ शिकायत,
संसद में बैठे दागी
एकजुट हो
करें हिमायत
बेहयाई नहीं टूटती,
रोज़ उठें तूफ़ान सड़क पर।

दूरदर्शनी बने हुए
इस दौर के
भोण्डे तुक्कड़,
सरस्वती के सब बेटे
हैं घूमते
बनकर फक्कड़
अपमान का गरल पी रहा
ग़ालिब का दीवान सड़क पर ।

खेत छिने, खलिहान लुटे
बिका घर भी
कंगाल हुए,
रोटी, कपड़ा, मन का चैन
लूटें बाज,
बदहाल हुए
फ़सलों पर बन रहे भवन
किसान लहूलुहान सड़क पर।

मैली चादर रिश्तों की
धुलती नहीं
सूखा पानी,
दम घुटकर विश्वास मरा
कसम-सूली
चढ़ी जवानी;
उम्र बीतने पर दिया है

-रामेश्वर कांबोज हिमांशु

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छी रचना है... समयोचित भी...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपमान का गरल पी रहा
    ग़ालिब का दीवान सड़क पर ।

    बहुत सटीक पर कटु सत्य..

    उत्तर देंहटाएं
  3. aaj kee sthiti ko bayan karti bahut sateek kavita.charcha manch se aaj aapke is blog par aana hua aur ek bahut hi srijansheel kavi ki kavita se ru-b-ru hone ka avsar mila.
    mere blog kaushal ar bhi aapka hardik swagat hai..

    उत्तर देंहटाएं
  4. फ़सलों पर बन रहे भवन
    किसान लहूलुहान सड़क पर

    mitti ka dard h ye...bahut khoob..

    उत्तर देंहटाएं
  5. समसामयिक रचना के लियें आपको बधाई...

    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपमान का गरल पी रहा
    ग़ालिब का दीवान सड़क पर ।

    बेमिसाल, काफ़ी प्रभावित कर गई ये कहन| बधाई हिमांशु जी|

    उत्तर देंहटाएं
  7. दूरदर्शनी बने हुए
    इस दौर के
    भोण्डे तुक्कड़,
    सरस्वती के सब बेटे
    हैं घूमते
    बनकर फक्कड़
    अपमान का गरल पी रहा
    ग़ालिब का दीवान सड़क पर ।
    bahut khoob
    sachchi baten
    sunder shbd snyojan
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  8. समय की विसंगतियों को बखूबी उद्घाटित किया है... सशक्त रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब!

    सरस्वती के बेटे
    घूमते
    बनकर फक्कड
    सडक पे
    अपमान का गर्ल
    पी रहा
    ग़ालिब का
    दीवान
    सडक पे

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।