16 फ़रवरी 2011

१२. इस सड़क के

इस सडक के
नित्य बदलें नए चोले

सुबह के आँचल में
रात की कहानी
सडक के किनारे
बिखरी है जिन्दगानी
खुशियाँ चुप रहें
दर्द हौले से बात खोले
इस सडक के नित्य बदलें
नए चोले

कहीं सेहरे
कहीं अर्थी के फूल
नैनो में चुभते
हादसों के शूल
शब्द बिक गये
सत्य को अब कौन बोले
इस सडक के नित्य बदलें
नए चोले

भूख से जन्मी
घरती की कली वो
सड़क की गोद में
बे मौसम पली वो
रंगों की चाहत में
रिबनों-सी उड़े डोले
इस सडक के नित्य बदलें
नए चोले

--रचना श्रीवास्तव

11 टिप्‍पणियां:

  1. मनभावन भावों से सजाया है इस नवगीत को रचना जी आपने| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस सडक के
    नित्य बदलें नए चोले

    रचना जी!
    अच्छी प्रस्तुति. आपको अर्पित कुछ पंक्तियाँ:

    इस सड़क ने
    नित्य बदले नए चोले...

    खुशियाँ सभी ने देखीं
    पीड़ा न युग ने जानी.
    विष पी गयी यहीं पर
    मीरां सी राजरानी.

    चुप सड़क ने
    कुछ न कहकर सत्य बोले.
    इस सड़क ने
    नित्य बदले नए चोले...

    घूमे यहीं दीवाने,
    गूँजे यहीं तराने,
    थी होड़ सिर कटायें-
    अब शेष हैं बहाने.

    क्यों सड़क ने
    अमृत में भी ज़हर घोले...
    इस सड़क ने
    नित्य बदले नए चोले...

    हर मूल्य क्यों बिकाऊ?
    हर बात क्यों उबाऊ?
    मौसम चला-चली का-
    कुछ भी न क्यों टिकाऊ?

    हर सीने में
    'सलिल' धड़के आज शोले.
    इस सड़क ने
    नित्य बदले नए चोले...

    *****************

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस सडक के नित्य बदलते चोले.

    बहुत सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. रचना जी ने जीवन के विभिन्न परिवर्तनों का क्टु यथार्थ प्रस्तुत किया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अमिता कौंडल17 फ़रवरी 2011 को 9:46 pm

    सुंदर नवगीत के लिए बधाई..........
    सादर अमिता

    उत्तर देंहटाएं
  6. navin ji aur salil ji aap dono ka bhu bahu dhyavad
    salil jo aap ne sunder geet likha hai dhnyavad
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीया पूर्णिमा जी आप द्वारा गीत /नवगीत के लिए अद्भुत सराहनीय कार्य किया जा रहा है |इसके लिए आपकी जितनी तारीफ की जाए कम होगी \जो काम डॉ शम्भुनाथ सिंह जी ने नवगीत दशक के माध्यम से किया वह काम आप मध्य एशिया में रहकर कर रही हैं |आप से मुझे नवगीत पर इंटरव्यू करना पड़ेगा |

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर रचना है। रचना जी को बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सड़क के विभिन्न रूपों को आपने
    बड़ी ही सुंदरता से अपने भावों में ढाला है....

    रचना जी बधाई..और आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  10. Sharda ji,Himanshu ji,Amita ji,Geeta ji,Dhrmendra ji,Jaykrishn ji aap sabhi ka bhut bahut abhar ki aap ne apne bahumulya smy se smy nikal kal apne vichar likhe .asha hai aap sabhi ka aneh aese hi milta rahega .
    dhnyavad
    Rachana

    उत्तर देंहटाएं
  11. 'इस सडक के नित्य बदले नये चोले'- गीत का मुखड़ा बहुत प्रभावी बन पड़ा है | फ़िलवक्त के यथार्थ के अंकन की दृष्टि से गीत पठनीय है | किन्तु इसमें लयों के विधान में अपेक्षित कसाव कम है और इसी से यह नवगीत की परिधि को छूता हुआ भी पूरी तरह नवगीत नहीं बन पाया है | रचना जी की रचनाधर्मिता को मेरा हार्दिक साधुवाद एवं नमन है |
    कुमार रवीन्द्र

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।