18 जून 2011

१५. चितवन फूल पलाश

हँसी तुम्हारी चंदा जैसी,
चितवन फूल पलाश
बातें झरना यथा ओसकण
तारों भरा उजास

गुन-गुन
भौंरों जैसे गाना,
और शरारत से मुस्काना
हौले-से,
ही हमें चिढ़ाना
वादा कर फिर हाथ न आना
चमकाती लेकिन फिर भी हो
एक किरन की आस


जो भी
दिन है साथ बिताए,
जस फूलों की घाटी घर
नोंक-झोंक
विस्मृति-स्मृति में,
एक क्षीरमय सुन्दर सर
मिलना तुम से तीरथ जैसा,
भूला - बिसरा रास

- क्षेत्रपाल शर्मा

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर रचना है। क्षेत्रपाल जी को बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पलाश के बहाने कुछ अच्छे गोतों का सृजन हो गया!

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक अच्छा गीत है, वधाई ! थौड़ा सा कथ्य में नयापन लाकर इसे नवगीत भी बनाया जा सकता है।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।