19 जून 2011

१७. फागुन में टेसू बन जाऊँ

फागुन में टेसू बन जाऊँ,
सावन मेघ मल्हार
भरी दुपहरिया जेठ में शीतल छाया क्यार

ऋतु बसंत में
हवा बसंती, पूरबा की पुरवाई
बनकर खेलूं आंख-मिचौली घर, आंगन, अमराई
भादो की काली रातों में
दीप जलाऊँ द्वार

पूस-माघ की
बाहों में 'चांद' जले जब रातों को
दिल ढूँढे फिर, फूल 'पलाश' के रंग-रंगे जज्बातों को
बन बदरा, घनघोर घटा, तन पर
बरसाऊँ 'प्यार'

--नियति वर्मा

3 टिप्‍पणियां:

  1. पूस-माघ की
    बाहों में 'चांद' जले जब रातों को
    दिल ढूँढे फिर, फूल 'पलाश' के रंग-रंगे जज्बातों को
    बन बदरा, घनघोर घटा, तन पर
    बरसाऊँ 'प्यार'
    सुंदर गीत
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।