26 जुलाई 2011

२. भैया जी के स्वप्न लोक में

भैया जी के स्वप्नलोक में
आता रहा शहर।

शीशे जैसी चिकनी सड़कें
आवाजाही चहलपहल
दुल्हन जैसी सजीं दुकानें
नभ को छूते रंग महल
नये नये रूपों में
मन को
भाता रहा शहर।

रूठी बैठीं सुख सुविधाएँ
छोटे ने अपनाया घर
आशाओं की गठरी लेकर
भैया पहुँचे बड़े शहर
उम्मीदों के
गीत सुहाने
गाता रहा शहर

अपनेपन को कितना खोजा
व्यर्थ लगाये कितने फेरे
गूँगी बहरी मानवता ही
मिला दौड़ती साँझ सवेरे
भरी भीड़ में
एकाकीपन
लाता रहा शहर

-त्रिलोक सिंह ठकुरेला
आबूरोड, राजस्थान

17 टिप्‍पणियां:

  1. "डंडा" भ्रष्टाचार है, छ्ल रूपी वह मर्ज़।
    जिसको फैलाता सदा जनता में ख़ुदगर्ज़॥

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर गीत। त्रिलोक सिंह जी को बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शहरों का एकाकीपन और वहाँ खो गए इंसान के दर्द को बखूबी दर्शाती कविता... कभी मेरे ब्लाग पर आकर टिप दें...

    उत्तर देंहटाएं
  4. त्रिलोक सिंह ठकुरेला का यह नवगीत पूरी तरह से कसावट भरा नवगीत है। नवगीत की सारी विशेषताएँ यह नवगीत पूरी करता है। शुरू से लेकर अन्त तक बहुत अच्छा निर्वाह किया है नवगीतकार ने जो कि किसी बहुत ही सिद्धहस्त रचनाकार के द्वारा ही संभव होता है। इतना अच्छा नवगीत पाठशाला में आना बहुत शुभ संकेत है। ठकुरेला जी को वधाई।
    "भैया जी के स्वप्नलोक में
    आता रहा शहर।

    शीशे जैसी चिकनी सड़कें
    आवाजाही चहलपहल
    दुल्हन जैसी सजीं दुकानें
    नभ को छूते रंग महल
    नये नये रूपों में
    मन को
    भाता रहा शहर।"
    क्या बात है ......... मध्यम वर्गीय परिवार की पूरी रामकहानी यहाँ मौजूद है.....

    "रूठी बैठीं सुख सुविधाएँ
    छोटे ने अपनाया घर
    आशाओं की गठरी लेकर
    भैया पहुँचे बड़े शहर
    उम्मीदों के
    गीत सुहाने
    गाता रहा शहर.."
    शहरों में भला गाँव जैसा अपनापन कहाँ ........

    "अपनेपन को कितना खोजा
    व्यर्थ लगाये कितने फेरे
    गूँगी बहरी मानवता ही
    मिला दौड़ती साँझ सवेरे
    भरी भीड़ में
    एकाकीपन
    लाता रहा शहर"
    काश ! ऐसे ही नवगीत रचे जाते रहें......... गजल वाले देखें कि क्या कुछ नहीं है यहाँ.......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत प्यारा नवगीत है ठकुरेला जी का।बहुत प्यारा नवगीत है ठकुरेला जी का।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर...
    अच्छा लगा आपको पढ़ना...

    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  7. उम्मीदों के
    गीत सुहाने
    गाता रहा शहर
    *
    भरी भीड़ में
    एकाकीपन
    लाता रहा शहर

    शहर के दो रूपों को उद्घाटित करता अच्छा नवगीत.
    Acharya Sanjiv Salil

    http://divyanarmada.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह, बहुत सुन्दर नवगीत

    अपनेपन को कितना खोजा
    व्यर्थ लगाये कितने फेरे
    गूँगी बहरी मानवता ही
    मिला दौड़ती साँझ सवेरे
    भरी भीड़ में
    एकाकीपन
    लाता रहा शहर


    सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छा नवगीत है ठकुरेला जी का। पाठशाला में पहली बार आगमन पर स्वागत और एक बहुत अच्छे नवगीत के लिये वधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनेपन को कितना खोजा
    व्यर्थ लगाये कितने फेरे
    गूँगी बहरी मानवता ही
    मिला दौड़ती साँझ सवेरे
    भरी भीड़ में
    एकाकीपन
    लाता रहा शहर Ati sundar abhivyakti Prabhudayal Shrivastava

    उत्तर देंहटाएं
  11. रूठी बैठीं सुख सुविधाएँ
    छोटे ने अपनाया घर
    आशाओं की गठरी लेकर
    भैया पहुँचे बड़े शहर
    उम्मीदों के
    गीत सुहाने
    गाता रहा शहर.."
    सुन्दर नवगीत के लिये वधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. पूरी गाथा और शहर की विविधताओं का अच्छा विवरण प्रस्तुत किया है इस नवगीत में। टिप्पणियाँ भी बहुत अच्छी मिली हैं, आपको बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. महानगरों में बेतहाशा बढ़ रही संवेदनहीनता को बहुत अच्छी तरह से नवगीत में प्रस्तुत किया गया है। लग रहा है कि अच्छे नवगीत ग़ज़ल के तिलस्म को फीका कर देंगे । वधाई ठकुरेला जी को और वधाई पाठशाला को भी कि नवगीतों को पढ़ने का बहुत अच्छा अवसर मिल रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपनेपन को कितना खोजा
    व्यर्थ लगाये कितने फेरे
    गूँगी बहरी मानवता ही
    मिला दौड़ती साँझ सवेरे
    भरी भीड़ में
    एकाकीपन
    लाता रहा शहर

    अच्छी प्रस्तुति के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. उत्तम द्विवेदी8 अगस्त 2011 को 6:45 pm

    बहुत ही अच्छा नवगीत पढ़ कर मन प्रसन्न हो गया . आगे क्या कहूँ सभी ने बहुत कुछ कह दिया है .

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।