8 अक्तूबर 2011

१२. दिन खनकता है

दिन खनकता है
सुबह से शाम कंगन-सा।

खुल रहा मौसम
हवा में गुनगुनाहट और नरमी
धूप हल्के पॉंव करती
खिड़कियों पर चहलकदमी
खुशबुओं-सी याद
ऑंखों में उतरती है
तन महकता है
सुबह से शाम चंदन-सा।

मुँह अँधेरे छोड़ कर
अपने बसेरे
अब यहॉं तब वहॉं चिड़ियॉं
टहलती हैं दीठ फेरे
तितलियों-से क्षण
पकड़ में पर नहीं आते
मन फुदकता है
सुबह से शाम खंजन-सा।

चुस्कियों में चाय-सा
दिन भी गया है बँट
दोपहर के बाद होती
खतों की आहट
रंग मौसम के सुहाने
लौट आए हैं
लौटता अहसास फिर-फिर
शोख बचपन-सा।
दिन खनकता है
सुबह से शाम कंगन-सा।

-ओम निश्चल
(वाराणसी)

2 टिप्‍पणियां:

  1. लौटता अहसास फिर-फिर
    शोख बचपन-सा।
    दिन खनकता है
    सुबह से शाम कंगन-सा।

    सटीक बिम्ब चित्रित करते शिल्प के लिए सराहना.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर शब्द चित्र खींचे हैं ओम जी ने उन्हें बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।