19 अक्तूबर 2011

२२. आ गया दीपों का त्यौहार

आ गया
दीपों का त्यौहार
अँधेरा टाले नहीं टले

दूर हो
मन की कड़वाहट
न हो अब कोई जन आहत
मिटा दे हर विकार मन से
नेह का हो
ऐसा व्यवहार
हृदय में अनुपम नेह पले

चाँदनी
तू चुप सी क्यों है
अमावस से डरती क्यों हैं
तमस का टूटेगा फिर जाल
प्रकाशित होगा
हर घर द्वार
रौशनी होगी साँझ ढले

-कृष्णकुमार तिवारी
(बरेली)

5 टिप्‍पणियां:

  1. दीपावली का स्‍वागत करती एक खूबसूरत रचना
    दीपावली की शुभकामनाएं

    हिन्‍दी कॉमेडी- चैटिंग के साइड इफेक्‍ट

    उत्तर देंहटाएं
  2. चाँदनी तू चुप सी क्यों है, अमावस से डरती क्यों हैं-- बहुत सुंदर संवाद। सुंदर नवगीत के लि‍ए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।