22 मार्च 2012

३. हरसिंगार फूल से झरें

सिंदूरी सपने
पल-छिन
हरसिंगार फूल से झरें

झाँक गयी वातायन से
मंद-मंद बहती पुरवा
चुपके-चुपके जाने कब
खोल गयी पृष्ठ अनछुआ
बेटी की ओर ताकती
अम्मा का माँगना दुआ

होनी-अनहोनी
संभ्रम
अंतस में हूक सी भरें


जाड़े की बरखा में भी
छप्पर का टप-टप संगीत
श्रमिकों के चूल्हों पर ही
बढ़ती महँगाई की प्रीत
सड़कों से पगडंडी तक
गुमसुम हैं, रोटी के गीत
जीवन भर
आपाधापी
झरबेरी बेर सी फरें

- अनिल वर्मा
लखनऊ

7 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति ।

    नवसंवत्सर की शुभकामनायें ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. चुपके-चुपके जाने कब
    खोल गयी पृष्ठ अनछुआ
    बेटी की ओर ताकती
    अम्मा का माँगना दुआ
    बहुत सुन्दर भाव जैसे किसी आम घर से लिए गए चित्र का वर्णन ...बधाई श्री अनिल वर्मा जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. नीरज जी के गीत "स्वप्न झरे फूल से" की याद आ गई। अंतिम बंद आम जन के दुख दर्द को पूरी सहजता और सफलता से वर्णित करने के कारण विशेष लगा। बधाई अनिल जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. सिंदूरी सपने
    पल-छिन
    हरसिंगार फूल से झरें

    झाँक गयी वातायन से
    मंद-मंद बहती पुरवा
    चुपके-चुपके जाने कब
    खोल गयी पृष्ठ अनछुआ
    बेटी की ओर ताकती
    अम्मा का माँगना दुआ
    अति सुंदर प्रस्तुति
    बधाई
    अनिल वर्माजी

    उत्तर देंहटाएं
  5. अम्मा का बेटी के लिए दुआ मांगना और फिर निर्धन की असहाय मन:स्थिति का चित्रण बहुत ही प्रभावी लगे | धन्यवाद अनिल जी
    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  6. झाँक गयी वातायन से
    मंद-मंद बहती पुरवा
    चुपके-चुपके जाने कब
    खोल गयी पृष्ठ अनछुआ
    बेटी की ओर ताकती
    अम्मा का माँगना दुआ
    अति सुंदर
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  7. सिंदूरी सपने
    पल-छिन
    हरसिंगार फूल से झरें

    सामाजिक सचाइयों को मुखर करता सशक्त नवगीत.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।