13 जून 2012

१३. उमस तपन थकन के दिन

लो फिर आ गए
उमस, तपन, थकन के दिन
उग्रवादी सूरज का अब
हिटलरी राज होगा।

बेघर छाँह के
हर शरणार्थी टुकड़े पर
फिर लगेंगी थके-हारे पथिकों की बोलियाँ
सिर चढ़कर बोलेगी आतंकवादी धूप
लू चलाएगी
फिर अंधाधुंध गोलियाँ
कटार बन जाएंगे पसीनों के पिन
आवारा होगी धूल और
मौसम बाज होगा

उम्रकैद में
होगी फिर से शीतल छाँह
राहत को मिलेगी सजा कालेपानी की,
गली-गली पहरा देंगी
उमस की बेटियाँ
फिर जागेंगी यादें अनायास नानी की
कदमताल करेंगी चिपचिपी चींटियाँ
थककर बैठा संध्या का
सांताक्लाज होगा

राजेश कुमार श्रीवास्तव
नई दिल्ली

7 टिप्‍पणियां:

  1. राजेश जी, बहुत अच्छे बिम्ब हैं पूरे गीत में। रचना बहुत सुंदर और शानदार बन गई है। बधाई आपको।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद कल्पना जी। जो बिम्ब बनाना चाहता था, अगर वे सचमुच प्रतिबिंबित हो गए हैं तो कविता सार्थक हो गई है। एक बार पुनः धन्यवाद।

      हटाएं
  2. आपकी पोस्ट कल 14/6/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा - 902 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर रचना के लिए राजेश जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. उग्रवादी सूरज का हिटलरी राज्य, लू की गोलियाँ, पसीने की कटार, उमस की बेटियां... अनूठी कल्पनाएँ. सरस गीत हेतु बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  5. शशि पाधा16 जून 2012 को 1:36 am

    राजेश जी , एक दम नए बिम्ब, नए स्वर मिले आपकी इस रचना में | बधाई आपको |
    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।