10 सितंबर 2012

१. छूट गयी धरती

मेहनत का फल भी
हमको
अज़ब मिला
छूट गयी धरती
आकाश जब मिला


हम सहेज क्या पाते
रिश्तों को
नातों को
तरस रहा मन अब तो
खुद से दो बातों को
खुलकर हँस लें हम
अवकाश कब मिला


सेंध कौन मार गया
मन के
उल्लास में
उलझ गए हैं हम भी
प्रॉफिट में, लॉस में
कहने को हमको
मधुमास अब मिला


ऐसे में अपना वह
गाँव
याद आता है
आपस में सबका
जुडाव याद आता है
हमने क्या खोया
आभास अब मिला
                            

- रवि शंकर मिश्र "रवि"
राजापुर खरहर
रानीगंज
 प्रतापगढ़

34 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. गीत अच्छा है| मेरा हार्दिक अभिनन्दन स्वीकारें एक सधे हुए नवगीत के लिए|
    'सेंध कौन मार गया
    मन के / उल्लास में
    उलझ गए हैं हम भी
    प्रॉफिट में, लॉस में
    कहने को हमको
    मधुमास अब मिला'
    जैसी पंक्तियाँ इसे नवगीत पाठशाला के इस अंक की उपलब्धि-रचना बनाती हैं|
    कुमार रवीन्द्र

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका आशीर्वाद पाकर अभिभूत हूँ। हार्दिक आभार

      हटाएं
  4. पहला ही नवगीत इतना शानदार आ गया। बधाई रवि शंकर जी को

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर नवगीत के लिए शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं



  6. ऐसे में अपना वह
    गाँव
    याद आता है
    आपस में सबका
    जुडाव याद आता है
    हमने क्या खोया
    आभास अब मिला

    बहुत सुंदर नवगीत!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन हेतु कोटिशः धन्यवाद

      हटाएं
  7. बहुत अच्छा गीत रवि शंकर जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर गीत रवि जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. ऐसे में अपना वह
    गाँव
    याद आता है
    आपस में सबका
    जुडाव याद आता है
    हमने क्या खोया
    आभास अब मिला
    वाकई.....!
    बहुत सुन्दर .....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉ सरस्वती माथुर......

    बहुत सुंदर नवगीत......"सेंध कौन मार गया
    मन के उल्लास में.."शुभकामनाएँ!
    डॉ सरस्वती माथुर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सुन्दर टिप्पणी मिली है। अब मेरे मन के उल्लास में कोई सेंध नहीं मार पायेगा।

      हटाएं
  11. परमेश्वर फुंकवाल12 सितंबर 2012 को 7:46 pm

    बहुत सुन्दर नवगीत. हर अंतरे में नवीनता है. बहुत मासूमियत भरे प्रश्न हैं और आज का सजीव चित्र है. बहुत बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. अनिल वर्मा, लखनऊ.12 सितंबर 2012 को 8:46 pm

    छूट गयी धरती
    आकाश जब मिला ...बहुत ही सुन्दर. सुन्दर नवगीत के लिये हार्दिक बधाई रवि जी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. विशेषज्ञ टिप्पणियाँ ही इस नवगीत की उत्कृष्टता सिद्ध कर देती हैं. मुखड़ा:
    मेहनत का फल हमको
    अज़ब मिला.
    छूट गयी धरती
    आकाश जब मिला.......
    सेंध कौन मार गया
    मन के उल्लास में.....
    हमने क्या खोया आभास अब मिला.
    सुन्दर सम्प्रेषण. बधाई रवि जी.

    उत्तर देंहटाएं
  14. उत्तम द्विवेदी15 सितंबर 2012 को 4:58 pm

    सुन्दर नवगीत के लिए रवि जी को बहुत-बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  15. रविशंकर मिश्र जी का यह बहुत सुन्दर नवगीत है, एकदम सहज, सरल और सीधे सीधे बातचीत का आभास दिलाता यह नवगीत है-
    "हम सहेज क्या पाते
    रिश्तों को
    नातों को
    तरस रहा मन अब तो
    खुद से दो बातों को "

    वधाई बहुत सुन्दर नवगीत के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी मेरे लिये बहुत मूल्यवान है। बहुत बहुत आभार

      हटाएं
  16. क्या बात....क्या बात...क्या बात...





    के.यन. मौर्य

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर नवगीत
    मेरी बधाई स्वीकार करें ..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।