10 दिसंबर 2012

१. क्या समय बदल गया

बदल रहे सप्ताह, महीने, साल
मगर है प्रश्न
क्या समय बदल गया ?

नए कैनवस पर रेखाएं
बदलीं
चित्र पुराने हैं
स्याही कागज़ नए
शब्द लेकिन
जाने पहचाने हैं
रौनक तिथि-पत्रों की बदली
और आखिर क्या बदल गया

मजबूरी की आह
अभी तक
भिंची हुयी है मुट्ठी में
नम आँखों की चाह
अब तलक बंद
पुरानी चिट्ठी में
कंठों के स्वर बदले पर
क्या गीत पुराना बदल गया ?

मोहग्रस्त बीमार
रिवाजों के हम
अब तक साथ चले
ना कथनी की
आँख खुली है
ना करनी के दिन बदले
बदलो तुम और बदले हम
तो लगे की हाँ कुछ बदल गया

-सीमा अग्रवाल

9 टिप्‍पणियां:


  1. बदलो तुम और बदले हम
    तो लगे की हाँ कुछ बदल गया

    बहुत सुंदर
    बधाई सीमा जी..

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह सीमा जी, बहुत सुंदर नवगीत वो भी पहले नंबर पर!हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. मजबूरी की आह
    अभी तक
    भिंची हुयी है मुट्ठी में
    नम आँखों की चाह
    अब तलक बंद
    पुरानी चिट्ठी में
    कंठों के स्वर बदले पर
    क्या गीत पुराना बदल गया ? .......... सुंदर नवगीत सीमा जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बदलो तुम और बदले हम
    तो लगे कि हाँ कुछ बदल गया ।
    सुन्दर भावपूर्ण नवगीत के लिए सीमा जी को बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सीमा जी का नवगीत बहुत सुंदर है। बधाई उन्हें

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनिल वर्मा, लखनऊ.13 दिसंबर 2012 को 6:59 pm

    ना कथनी की
    आँख खुली है
    ना करनी के दिन बदले
    बदलो तुम और बदले हम
    तो लगे की हाँ कुछ बदल गया .. बहुत खूब सीमा जी. सुन्दर नवगीत के लिये हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. मोहग्रस्त बीमार
    रिवाजों के हम
    अब तक साथ चले
    ना कथनी की
    आँख खुली है
    ना करनी के दिन बदले .. बहुत सुन्दर सीमा जी.बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. सार्थक प्रस्तुति हेतु बधाई सीमा जी!.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कृष्ण नन्दन मौर्य20 दिसंबर 2012 को 7:06 am

    मजबूरी की आह
    अभी तक
    भिंची हुयी है मुट्ठी में
    नम आँखों की चाह
    अब तलक बंद
    पुरानी चिट्ठी में
    कंठों के स्वर बदले पर
    क्या गीत पुराना बदल गया ?
    ..बहुत सुन्दर गीत

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।