26 दिसंबर 2012

१४. आगम नूतन वर्ष का

आगम नूतन वर्ष का
हर दिन पावन हो

आलक्तक रंजित पावों से
आए उषा की लाली
खुशियों से सुरभित हो जाए
मन की हर इक डाली
सभी सुखी हों,
सभी स्वस्थ हों
प्रमुदित आँगन हो

दूर निराशा के घेरों से
जन-मानस हो जाए
शांति-बंधुता बनी रहे
सुख का पावस हरषाए
दुःख के दूर
प्रभंजन हों
मुकुलित आनन हो

--विजय पुष्पम पाठक

4 टिप्‍पणियां:

  1. विश्व-भर के लिए शांति-बंधुता, आशापूर्ण भविष्य, सुख-स्वास्थ्य की मंगलमय कामना से आलोकित सुन्दर नवगीत ! हार्दिक बधाई विजय पुष्पम जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर भावनापूर्ण नवगीत के लिए विजय जी को बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर नवगीत के लिए हार्दिक बधाई विजय जी ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।