21 मई 2013

२. तत्पर खड़ा है नीम


रोक कर चुभती हवा
वैसाख की,
प्राणियों की प्राण रक्षा
हित खड़ा है नीम।

जानता है वो,
समय उसके लिए यह खास है।
एक उसकी छाँव की
हर जीव जन को आस है।
ढाल बन किरणें निगलकर सूर्य की,
दोपहर में प्रात सा
सुखकर खड़ा है नीम।

पात बिन जब,
ठूँठ दिखते, पेड़ कई छोटे बड़े।
श्वेत पुष्पों हरित पत्तों
से लुभाता पेड़ ये।
शुद्धतम शीतल हवाएँ रोककर,
ताप के आघात से
हँसकर लड़ा है नीम।

हो निरोगी तन,
सुबह कुछ पान खाएँ नीम के।
और है हितकर,
अगर हो स्नान उबले नीम से।
स्वाद कड़वा, पर असर मीठा लिए,
बाँटने हर अंग को,
तत्पर खड़ा है नीम।

कल्पना रामानी
(मुंबई)

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर !

    श्वेत पुष्पों हरित पत्तों
    से लुभाता पेड़ ये।
    शुद्धतम शीतल हवाएँ रोककर,
    ताप के आघात से
    हँसकर लड़ा है नीम।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नीम की गुणवत्ता का
    सुंदरता से बखान करता सुंदर नवगीत ..

    बधाई कल्पना जी को ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति से मानव जीवन के तादात्म्य ko उजागर करने का जो गुण आपके नवगीतों में होता है, वह बड़ा ही विरल है आदरणीया रामानी जी. एक खूबसूरत नवगीत आपका. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर नवगीत के लिए कल्पना जी को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना के लिए बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही में नीम के गुण अनगिनत हैं
    बढ़िया सार्थक रचना
    साभार!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर और सार्थक नवगीत। बधाई कल्पना रामानी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Your corelation and grip to subject is amazing...i like the way you treat with....congrats maa

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वाद कड़वा, पर असर मीठा लिए,
    बाँटने हर अंग को,
    तत्पर खड़ा है नीम।
    ...सुन्दर और सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।