30 मई 2013

१०. बैठ नीम की छाया में

सड़क किनारे
बैठ नीम की छाया में
कच्ची कैरी
बेच रही है रामकली

घनी धूप है और
तप रही दोपहरी
आग पेट की
सुलग रही गहरी-गहरी

आते-जाते लोग देखकर
नीम तले
रस की ढेरी
बेच रही है रामकली

नए साल में
गये साल की यादों को
जोड़ रही टूटे-बिखरे
संवादों को

घनी घाम में, नीम छाँव में
चेहरों को
ख़ुशी घनेरी
बेच रही है रामकली

-जगदीश पंकज
(गाजियाबाद)

3 टिप्‍पणियां:

  1. वाह लाजवाब और सुन्दर रचना |


    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  2. नीम से हमारे कार्यव्यापार के जुडाव को प्रदर्शित करता सुन्दर नवगीत।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।