4 अगस्त 2013

कार्यशाला- २९ मेरा भारत

स्वतंत्रता दिवस नजदीक है और देश प्रेम की भावना शाश्वत, लेकिन कुछ लोगों के निजी स्वार्थ, लालच और विदेशी ताकतों की कूटनीति से विश्व के जो देश अपनी भाषा, सभ्यता और संस्कृति के नष्ट होने का दंश झेल रहे हैं हमारा देश भी उनमें शामिल हो गया लगता है।

इस सबके बावजूद देशप्रेम की भावना तो कम नहीं होती। सैकड़ों सालों की गुलामी के बाद भी जिस देशप्रेम को कुचला नहीं जा सका, क्या उसे आज चुनौती दी जा सकती है? देशप्रेम की तमाम विचारधाराओं, संवेदना की तमाम पर्तो और शिल्प की नवीनतम बारीकियों की खोज करने के लिये कार्यशाला - २९ की चुनौती प्रस्तुत है। विषय है मेरा भारत, नवगीत भेजने की अंतिम तिथि है १० अगस्त। चुने हुए नवगीत अनुभूति के स्वतंत्रता दिवस विशेषांक में शामिल होंगे। पता है- navgeetkipathshala@gmail.com

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छा आयोजन है! बहुत कुछ सीखने को मिलेगा हम सबको!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।