13 दिसंबर 2013

३. स्वागत हे नव वर्ष!

तुम्हारा स्वागत हे नव वर्ष!

पारिजात शुभ गन्ध बिखेरे
नयनों में फिर सपने तेरें
भूलें सब अवसाद भरे क्षण
खिलें कुसुम महके नंदन वन
मिलें फिर जन-जन को उत्कर्ष
तुम्हारा स्वागत हे नव वर्ष!

झूम-झूम कर कोयल गाये
अमराई खिल-खिल बौराये
सौरभ हर आंगन में उतरे
दर्पण-दर्पण राधा संवरे
धूम हो गली-गली में हर्ष
तुम्हारा स्वागत हे नव वर्ष!

ढोल मृदंग झांझ ढफ झनके
आंगन-आंगन पायल छनके
दिन होली हो रात दीवाली
कभी न आवे आंधी काली
न हो अब दुनियाँ में संघर्ष
तुम्हारा स्वागत हे नव वर्ष।।

डॉ. मधु प्रधान
(कानपुर)

4 टिप्‍पणियां:

  1. नए वर्ष के स्वागत में मनभावन गीत के लिए मधु प्रधान जी को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन की उमंगों से भरा सुन्दर नवगीत।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रस्तुति में लयात्मकता है.
    किन्तु रचना में नवीन बिम्बों का होना विधान को और संतुष्ट करता. इस हेतु रचनाकार का आग्रही होना पाठकों को भी आश्वस्त करेगा.
    शुभ-शुभ

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।