19 दिसंबर 2013

९. नये साल की धूप

आँखों के गमलों में
गेंदे आने को हैं
नये साल की धूप तनिक
तुम लेते आना

ये आये तब
प्रीत पलों में जब करवट है
धुआँ भरा है अहसासों में
गुम आहट है
फिर भी देखो
एक झिझकती कोशिश तो की !
भले अधिक मत खुलना
तुम, पर
कुछ सुन जाना
नये साल की धूप तनिक
तुम लेते आना

संवादों में--
यहाँ-वहाँ की, मौसम, नारे
निभते हैं
टेबुल-मैनर में रिश्ते सारे
रौशनदानी
कहाँ कभी एसी-कमरों में ?
बिजली गुल है
खिड़की-पल्ले तनिक हटाना
नये साल की धूप तनिक
तुम लेते आना

अच्छा कहना
बुरी तुम्हें क्या बात लगी थी
अपने हिस्से
बोलो फिर क्यों ओस जमी थी ?
आँखों को तुम
और मुखर कर नम कर देना
इसी बहाने होंठ हिलें तो
सब कह जाना
नये साल की धूप तनिक
तुम लेते आना

-सौरभ पाण्डेय
(इलाहाबाद)

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (22-12-2013) को "वो तुम ही थे....रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1469" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!!

    - ई॰ राहुल मिश्रा

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. हार्दिक धन्यवाद, नीरजभाईजी.

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. हौसलाअफ़ज़ाई के लिए धन्यवाद, रीनाजी.

      हटाएं
  4. जीवन में पसरे एकाकीपन, असंवाद को रेखांकित करता यह नवगीत "भले अधिक मत खुलना
    तुम, पर
    कुछ सुन जाना
    नये साल की धूप तनिक
    तुम लेते आना " जैसी पंक्तियों के माध्यम से रिश्तों में नयी ऊष्मा के संचरण का सार्थक प्रयास है. बधाई आ सौरभ जी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. भाई परमेश्वरजी, इस रचना के मर्म को छूने की आपकी सदाशयता से मैं अभिभूत हूँ.
      हार्दिक धन्यवाद

      हटाएं
  5. धुआँ भरा है अहसासों में
    गुम आहट है
    फिर भी देखो
    एक झिझकती कोशिश तो की !
    भले अधिक मत खुलना
    तुम, पर
    कुछ सुन जाना...... अनुकरणीय प्रस्तुति . हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी हौसलाअफ़ज़ाई के लिए शुक्रिया. कृष्णनन्दनजी.

      हटाएं
  6. धुआँ भरा है अहसासों में
    गुम आहट है
    फिर भी देखो
    एक झिझकती कोशिश तो की !
    भले अधिक मत खुलना
    तुम, पर
    कुछ सुन जाना...... अनुकरणीय प्रस्तुति . हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।