23 दिसंबर 2013

१३. आगत हुआ उदार

धूप ओढ़ाई
चौबारे पर ,
अँगना बोई बहार

गई रैन सपने
जो देखे
कुछ भोगे बहु
रहे अलेखे
नूतन - वर्ष
पाहुना आया
द्वारी चलूँ बुहार


खनखन गाएँ
मँजीरे घर-घर
बिटिया पुलक
फूल सी झर-झर
पलक मेरी हों
खुशियाँ तेरी
पाहुन की मनुहार

-प्रवीण पंडित
( दिल्ली )

3 टिप्‍पणियां:

  1. एक अच्छा गीत बन पड़ा है. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिटिया पुलक
    फूल सी झर-झर
    पलक मेरी हों
    खुशियाँ तेरी
    पाहुन की मनुहार...
    ...धूप ओढ़ाई
    चौबारे पर ,
    अँगना बोई बहार

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।