31 दिसंबर 2013

२१. नववर्ष आया

कर विदा गतवर्ष को
नववर्ष आया
संग सारे
प्यारे –प्यारे हर्ष लाया

प्रश्न जो था
हल हुआ गतवर्ष का
अब करें स्वागत
सभी नववर्ष का
सबने इक
नूतन सुखद निष्कर्ष पाया

नव उमंगें हों
नवल उत्साह हो
जिस तरफ हों पग
उधर ही राह हो
अब नहीं
होंगे कोई संघर्ष जाया


हौंसलों के पंख
लेकर हम उड़े
आसमां के गाँव
जाकर हम खड़े
आज हमने
इक नया उत्कर्ष पाया

अमित दुबे
(इलाहाबाद )

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हौंसलों के पंख
    लेकर हम उड़ें
    आसमां के गांव
    जाकर हम खड़ें
    आज हमने
    इक नया उत्कर्ष पाया।
    बहुत सुन्दर नवगीत, हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    गये साल को है प्रणाम!
    है नये साल का अभिनन्दन।।
    लाया हूँ स्वागत करने को
    थाली में कुछ अक्षत-चन्दन।।
    है नये साल का अभिनन्दन।।...
    --
    नवल वर्ष 2014 की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुप्रभात।
    --
    सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    गये साल को है प्रणाम!
    है नये साल का अभिनन्दन।।
    ईस्वीय नववर्ष 2014 की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    आपका हर दिन मंगलमय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  5. रोंप खुशियों की कोंपलें
    सदभावना की भरें उजास
    शुभकामनाओं से कर आगाज़
    नववर्ष 2014 में भरें मिठास

    नववर्ष 2014 आपके और आपके परिवार के लिये मंगलमय हो ,सुखकारी हो , आल्हादकारी हो

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।