3 फ़रवरी 2014

३. सपन सलोने

सपन सलोने,
नैनो में
जिया भ्रमर सा डोला है

हँसी ठिठोली, मंगल-गीत
गूँज रहे है घर, अँगना
हल्दी, उबटन तेल, हिना
खनके हाथों का कंगना

खिला शगुन के,
चंदन से
चंचल मुखड़ा भोला है


छेड़ें सखियाँ, थिरक रही
फिर, पैरों की पैंजनिया
बालों में गजरा महके
माथे झूमर ओढ़निया

खुसुर फुसुर की
बतियों ने
कानो में रस घोला है

-शशि पुरवार
जलगाँव (महाराष्ट्र)

30 टिप्‍पणियां:

  1. एक सलोना सा नवगीत, शशि जी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनिल वर्मा, लखनऊ3 फ़रवरी 2014 को 3:55 pm

    बहुत ही सुन्दर नवगीत, आपकी मेहनत रंग लायी. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनिल जी आपका आभार ,एक प्रयास किया था दुल्हन के भाव पूर्णतः उकेर सकूँ

      हटाएं
  3. अतिसुन्दर, हार्दिक बधाई
    आपको बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. राजेंद्र जी आपका आशीर्वाद अनमोल है। आभार

      हटाएं
  5. सुंदर .......
    मन में खुशियाँ भरती नवगीत :)
    सरस्वती पुजा की शुभकामनायें :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुकेश जी आपको गीत पसंद आया , धन्यवाद

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर ,भाव प्रधान ,शाब्दिक जादूगिरी ..युक्त ...उम्दा गीत....बधाई और शुभकामनाए की ऐसे ही सुंदर गीतों की रचना चलती रहे

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संजय जी आपको गीत पसंद आया , धन्यवाद

      हटाएं
  7. बसंत का सुंदर आगमन--
    बहुत मनभावन गीत
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई -----

    आग्रह है--
    वाह !! बसंत--------

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ज्योति खरे जी। इस मंच पर आपसे बहुत दिनों बाद मिलना हुआ, आपको गीत पसंद आया आभार।

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. लक्ष्मी नारायण जी आपको गीत पसंद आया आभार।

      हटाएं
  9. बसंत का सुंदर आगमन--
    मनभावन गीत
    बसंत पंचमी की अनंत हार्दिक शुभकानाएं ---
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई -----

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर बहुत ही सुन्दर नवगीत, शशि जी हार्दिक बधाई
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना बहन बहुत समय बाद आपसे इस मंच पर भेट हुई। आपको गीत पसंद आया आभार।

      हटाएं
  11. बहुत खूब शशि पुरवार जी, बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सज्जन जी नमस्ते आपसे इसी मंच पर भेट होती है । आपको गीत पसंद आया आभार।

      हटाएं
  12. खुसुर फुसुर की
    बतियों ने
    कानो में रस घोला है

    बहुत सुन्दर ! सार्थक विन्दु आपने पिरोया है शशिजी..
    नवगीत के लिए हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सौरभ जी प्रोत्साहन के दो शब्द भी लेखन और रचनात्मकता बढ़ा देते है , आभार

      हटाएं
  13. बेहद मासूमियत से शादी के माहौल को जीता है यह सारगर्भित गीत..बधाई शशि जी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. परमेश्वर जी प्रोत्साहन के दो शब्द भी लेखन और रचनात्मकता बढ़ा देते है ,आपका आभार

      हटाएं
  14. एक भोला भाला नवगीत | शशि , बधाई स्वीकारें |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शशि जी , आपको गीत पसंद आया, आभार

      हटाएं
  15. शशि पुरवार नवगीत में निरन्तर अच्छे सर्जन की ओर अग्रसर हैं। हार्दिक बधाई ! आलोचनाओं को शक्ति मानकर बढ़े चलो , भविष्य और उज्ज्वल है । इस नवगीत का माधुर्य मनमोहक है !!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।