23 जनवरी 2010

२३- ओढ़ कुहासे की चादर

ओढ़ कुहासे की चादर,
धरती लगती दादी
ऊँघ रहा सतपुडा
लपेटे मटमैली खादी

सूर्य अँगारों की सिगडी है
ठण्ड भगा ले भैया
श्वास-आस संग उछल-कूदकर
नाचो ता-ता थैया
तुहिन कणों को हरित दूब
लगती कोमल गादी

कुहरा छाया संबंधों पर
रिश्तों की गरमी पर
हुए कठोर आचरण अपने
कुहरा है नरमी पर
बेशरमी नेताओं ने
पहनी-ओढी-लादी

नैतिकता की गाय काँपती
संयम छत टपके
हार गया श्रम कोशिश कर
कर बार-बार अबके
मूल्यों की ठठरी मरघट तक
ख़ुद ही पहुँचा दी

भावनाओं को कामनाओं ने
हरदम ही कुचला
संयम-पंकज लालसाओं के
पंक-फँसा, फिसला
अपने घर की अपने हाथों
कर दी बर्बादी

बसते-बसते उजड़ी बस्ती
फ़िर-फ़िर बसना है
बस न रहा ख़ुद पर तो
परबस 'सलिल' तरसना है
रसना रस ना ले, लालच ने
लज्जा बिकवा दी

हर 'मावस पश्चात
पूर्णिमा लाती उजियारा
मृतिका दीप काटता तम की
युग-युग से कारा
तिमिर पिया, दीवाली ने
जीवन जय गुंजा दी

-आचार्य संजीव 'सलिल'

6 टिप्‍पणियां:

  1. अब के तीसरी बार आया दो बार पहले मेरा लेपटाप हेंग हो गया, क्रुप्या चेक करे अपना ब्लांग
    कविता बहुत सुंदर लगी

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'ओढ़ कुहासे की चादर,
    धरती लगती दादी'
    धन्यवाद सलिल जी मधुर रचना के लिये.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आचार्य सलिल जी का निहायत खूबसूरत नवगीत पढकर आनन्द आ गया। लय की नवीनता और नवीन प्रतीकों ने इसे उत्कृष्ट नवगीत बना दिया है। चौथे अन्तरे में एक एक मात्रा बढ जाने से प्रवाह में बहुत ही सूक्ष्म बाधा आ रही है। उसे कुछ इस तरह किया जा सकता है।
    मनोभावना को इच्छा ने
    हरदम ही कुचला
    संयम-जलज लालसाओं के
    पंक-फँसा, फिसला

    उत्तर देंहटाएं
  4. aap ke is nav geet ki ek ek line bahut sunder hai .aap jo bhi likhte hain bahut sunder likhte hain .
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।