27 फ़रवरी 2010

१३- प्रत्यंचा टूट गई : कैलाश पचौरी

प्रत्यंचा टूट गई
छूट गए फूलों के वाण
ऋतुओं के गंध कलश छलक गए

रेशमी हवाओं की
रस्सियाँ भाँजता
बटरोही वसंत
वन-बगीचों में झाँकता
कोयल के पैने संधान
अंध कूप में गहरे सरक गए

शहज़ादे सलीम-सा
बौराया आम
मेंहदी हसन-सी
ग़ज़ल पढ़ती है शाम
पहाड़ों पर नदी के पैतान
गुलमोहर निगाहों में करक गए

जंगल ने ओढ़ ली
खुशबू की चादर
धरती ने लगा ली
जैसे महावर
रंगों के तन गए वितान
गीत-क्षण शीशे-सा दरक गए

--
कैलाश पचौरी

9 टिप्‍पणियां:

  1. आप और आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ...nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत गीत..

    होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. रेशमी हवाओं की
    रस्सियाँ भाँजता
    बटरोही वसंत
    वन-बगीचों में झाँकता


    सुंदर..

    होली की शुभ-कामनाएँ आपको


    सस्नेह
    गीता

    उत्तर देंहटाएं
  4. kailashji, beshak prtyacha toot gaee
    apka geet nisandeh Shajade salim sa ashikana laga

    उत्तर देंहटाएं
  5. शहज़ादे सलीम-सा
    बौराया आम
    मेंहदी हसन-सी
    ग़ज़ल पढ़ती है शाम
    पहाड़ों पर नदी के पैतान
    गुलमोहर निगाहों में करक गए

    अभिनव प्रतीक ने मन प्रसन्न कर दिया. मनभावन रचना. बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  6. रंगों के तन गए वितान!
    --
    बहुत सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर,मनभावन रचना के लिये धन्यवाद ।

    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।