6 सितंबर 2010

०३. मेघ बजै, हवा चलै : धर्मेन्द्र कुमार सिंह "सज्जन"

मेघ बजै, हवा चलै
जियरा अगियार जलै

धनुष-गगन, बूँद-तीर
मन्मथ तन रहा चीर
मन होवै अति अधीर
पोर-पोर बढ़ै पीर
सन-सन पछियाँव बहै
बिरही मन आज दहै
सूरज ज्यों गले मिलै

अमवा झुकि झूमि-झूमि
महुआ मुख रहा चूमि
भीग रहे पात-पात
पुलकित हैं उभय गात
झर-झर-झर प्रेम झरै
चरर-मरर जिया करै
देखि-देखि बाँस जरै
--
धर्मेन्द्र कुमार सिंह "सज्जन"

8 टिप्‍पणियां:

  1. डा सुभाष राय7 सितंबर 2010 को 9:26 am

    धर्मेन्द्र का विरही मन बहुत सुन्दरता के साथ सामने आया है. अच्छे गीत के लिये बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. अमवा झुकि झूमि-झूमि
    महुआ मुख रहा चूमि
    भीग रहे पात-पात
    पुलकित हैं उभय गात
    झर-झर-झर प्रेम झरै
    चरर-मरर जिया करै
    देखि-देखि बाँस जरै
    -- dhvani shbdon ne man moh liya
    saader
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  3. अमवा झुकि झूमि-झूमि
    महुआ मुख रहा चूमि
    भीग रहे पात-पात
    पुलकित हैं उभय गात
    झर-झर-झर प्रेम झरै
    चरर-मरर जिया करै
    देखि-देखि बाँस जरै
    -- वाह वाह वाह । कितना प्यारा है यह शब्दों का सोता ।

    जवाब देंहटाएं
  4. purbi hindi ki sugandh liye geet me antim para achchha laga sadhuvaad

    जवाब देंहटाएं
  5. नवगीत की नई परिभाश्आ रचता हुआ मन कानन को
    झुमाता हुआ बिल्कुल अनूठे अंदाज के चिर पचिरिाचि
    रचनाकार भाई धर्मेन्द्रजी को हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  6. सरस सहज प्रवाहपूर्ण रम्य रचना. साधुवाद.

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।