28 सितंबर 2010

१२. मेघ डाकिया : पं.गिरिमोहन गुरु

ले आया पावस के पत्र
मेघ डाकिया

मौसम ने धूप दी उतार
पहन लिए बूँदों के गहने
खेतों में झोंपड़ी बना
कहीं-कहीं घास लगी रहने
बिना पिए तृषित पपीहा
कह उठा पिया-पिया-पिया

झींगुर के सामूहिक स्वर
रातों के होंठ लगे छूने
दादुर के बच्चों का शोर
तोड़ रहे सन्नाटे सूने
करुणा प्लावित हुई घटा
अंबर ने क्या नहीं दिया
--
पं.गिरिमोहन गुरु

7 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तम द्विवेदी28 सितंबर 2010 को 7:18 pm

    अच्छी अभिव्यक्ति॰॰॰

    मौसम ने धूप दी उतार
    पहन लिए बूँदों के गहने

    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. खेतों में झोंपड़ी बना
    कहीं-कहीं घास लगी रहने
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ| बहुत सुन्दर नवगीत|

    उत्तर देंहटाएं
  3. मौसम ने धूप दी उतार
    पहन लिए बूँदों के गहने
    और
    करुणा प्लावित हुई घटा
    अंबर ने क्या नहीं दिया
    पंक्तियाँ अच्छी लगीं .

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिना पिए तृषित पपीहा
    कह उठा पिया-पिया-पिया

    वाह.. वाह... गुरु जी! वाकई गुरु सी रचना है. पढ़कर आनंद मिला. होशंगाबाद कब बुला रहे हैं?... मैथिलेन्द्र जी को नमन कहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ले आया पावस के पत्र
    मेघ डाकिया

    मौसम ने धूप दी उतार
    पहन लिए बूँदों के गहने
    खेतों में झोंपड़ी बना
    कहीं-कहीं घास लगी रहने
    बिना पिए तृषित पपीहा
    कह उठा पिया-पिया-पिया

    एक और अति मनभावन नवगीत के लिए टीम
    अनुभूति को बधाई । गुरू देव आपको पढ़ते हुए
    नवगीत सीखने का मजा ही कुछ और है इसीलिए
    हम इस मंच पर आपकी अनवरत उपस्थिति के आकांक्षी है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. "ले आया पावस के पत्र
    मेघ डाकिया"

    बहुत सुंदर है. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।