30 सितंबर 2010

१३. मेघ बरसो रे : कमलेशकुमार दीवान

मेघ बरसो रे
प्यासे देश
वहाँ सब रीत गए
ताल-तलैया-नदियाँ सूखीं
रीता हिया का नेह
मेघ बरसो रे
पिया के देश
वहाँ सब बीत गए

कुम्हलाए हैं
कमल-कुमुदनी
घास-पात और देह
उड़-उड़ टेर लगाए पपीहा
होते गए विदेह
मेघ हर्षो रे
प्यासे देश
यहाँ सब रीत गए
--
कमलेशकुमार दीवान

5 टिप्‍पणियां:

  1. कमलेश जी!
    एक नए कथ्य को समाविष्ट करता अच्छा नवगीत है. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीवानजी छोटे किन्तु सरस व सुमधुर “ाब्द संयोजन में आपकी दीवानगी देखते ही बनती है
    सच कहूं तो हम भी आपके दीवाने हो गए हैं । क्या रखना चाहेंगे पपीहे की तरह अपने दीवानों की सूचि में मेरा नाम यदि हां तो फिर देर किस बात की। फिलहाल तो बधाई स्वीकार हो।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।