2 अक्तूबर 2010

१५. ओ बदरा रे, मेघा रे : शारदा मोंगा

बन-बन, डार-डार, मेघा रे
ओ बदरा रे, मेघा रे

उमड़-घुमड़कर बदरा बरसे
बिजुरी चमके, दामिनी दरसे
दादुर, मोर, पपीहा बोले
मनवा डोले होले-होले
गड़-गड़ गरजे, रिमझिम बरसे
इन्द्रधनुष सतरंगी रे
ओ बदरा रे, मेघा रे

कारी घटा घन फिर उमड़ावत
पपीहा बोले मन घबरावत
लरज-लरज बदरिया बरसे
हिय में सुधि प्रियतम की सरसे
मेघ, मल्हार, बजे बंसुरिया
राधा सँग नाचे साँवरिया
ओ बदरा रे, मेघा रे
--
शारदा मोंगा

5 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तम द्विवेदी2 अक्तूबर 2010 को 8:33 pm

    एक अच्छे नवगीत पर शारदा जी को बधाई!

    लरज-लरज बदरिया बरसे
    हिय में सुधि प्रियतम की सरसे
    मेघ, मल्हार, बजे बंसुरिया
    राधा सँग नाचे साँवरिया
    ओ बदरा रे, मेघा रे

    अच्छी पंक्तियाँ,धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. शारदाजी
    सावन भादो की घटा से घनीभूत
    आपके नवगीत ने एक फिर प्रीत की रीत को
    बहाल कर दिया है । बेशक इसका असर
    आगामी कार्यशाला में दिखेगा,फिलहाल आपकी पंक्तियों में ही आपको बधाई देने का मन करता है यदि आपकी अनुमति हो।

    उमड़-घुमड़कर बदरा बरसे
    बिजुरी चमके, दामिनी दरसे
    दादुर, मोर, पपीहा बोले
    मनवा डोले होले-होले
    गड़-गड़ गरजे, रिमझिम बरसे
    इन्द्रधनुष सतरंगी रे
    ओ बदरा रे, मेघा रे

    उत्तर देंहटाएं
  3. विमल कुमार हेड़ा।5 अक्तूबर 2010 को 9:16 am

    उमड़-घुमड़कर बदरा बरसे
    बिजुरी चमके, दामिनी दरसे
    दादुर, मोर, पपीहा बोले
    मनवा डोले होले-होले
    गड़-गड़ गरजे, रिमझिम बरसे
    इन्द्रधनुष सतरंगी रे
    ओ बदरा रे, मेघा रे
    बहुत ही सुन्दर गीत के लिये शारदा जी को बहुत बहुत बधाई
    धन्यवाद।
    विमल कुमार हेड़ा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शारदा जी! एक अच्छे नवगीत हेतु बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।