12 जून 2011

१०. फूल पलाश के

जीवन के कोरे लम्हों पर
रचते फूल पलाश के
तितली के चंचल पंखों पर
सजते फूल पलाश के

सूरज
उतरे झरने में
मल मल खूब नहाये
हरसिंगार के फूल
चांदनी वेणी गूँथ सजाये
चाँद थाम ले हाथ अगर तो
खिलते फूल पलाश के

बादल
पहने पायल डोलें
पर्वत की चोटी पर
हौले खोल किवाड़ झाँकती
ऋतुएँ घर के अंदर
धरा सुन्दरी की चूनर में
टँकते फूल पलाश के

कुछ निशान
बनते जाते हैं
लहरों और हवाओं में
इनकी तो पहचान बसी है
फागुन की रचनाओं में
सखी आज ऋतु के स्वागत में
बिछते फूल पलाश के

-रचना श्रीवास्तव

11 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ निशान
    बनते जाते हैं
    लहरों और हवाओं में
    इनकी तो पहचान बसी है
    फागुन की रचनाओं में
    सखी आज ऋतु के स्वागत में
    बिछते फूल पलाश के

    सुंदर रचना, पलाश के फूलों सी >

    उत्तर देंहटाएं
  2. पलाश के फूलों को महत्त्वपूर्ण बनाने की अच्छी कोशिश!

    उत्तर देंहटाएं
  3. jeevan ke kore lamhe par rachte fool flash ke sundar geet hai badhai aap ne dhak ke pate ko aakash jaisa vistrit kar diya dhanyabad

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत नवगीत , कल-कल जलधारा -सा प्रवाह लिये हुए , सादगी से भरा । ये पंक्तियाँ तो मन को छू गई -
    बादल पहने पायल डोलें
    पर्वत की चोटी पर
    हौले खोल किवाड़ झाँकती
    ऋतुएँ घर के अंदर
    धरा सुन्दरी की चूनर में
    टँकते फूल पलाश के

    उत्तर देंहटाएं
  5. आहा पलाश के फूल सी कविता .बहुत ही सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं
  6. अमिता कौंडल13 जून 2011 को 9:54 pm

    कुछ निशान
    बनते जाते हैं
    लहरों और हवाओं में
    इनकी तो पहचान बसी है
    फागुन की रचनाओं में
    सखी आज ऋतु के स्वागत में
    बिछते फूल पलाश के
    बहुत सुंदर नवगीत है रचना जी बधाई.
    सादर,
    अमिता कौंडल

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut pyaari rachna hai...
    सूरज
    उतरे झरने में
    मल मल खूब नहाये
    हरसिंगार के फूल
    चांदनी वेणी गूँथ सजाये
    चाँद थाम ले हाथ अगर तो
    खिलते फूल पलाश के

    बादल
    पहने पायल डोलें
    पर्वत की चोटी पर
    हौले खोल किवाड़ झाँकती
    ऋतुएँ घर के अंदर
    धरा सुन्दरी की चूनर में
    टँकते फूल पलाश के

    yeh panktiyaan to mann ko behad bhaa gayi...badhai...

    उत्तर देंहटाएं
  8. लहरों और हवाओं मे निशान , और फाल्गुनी रचनाओं में अपनी पहचान बनाने वाली इस प्यारी सी रचना के लिए रचना आप को बधाई ।

    सस्नेह,
    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  9. सूरज
    उतरे झरने में
    मल मल खूब नहाये
    हरसिंगार के फूल
    चांदनी वेणी गूँथ सजाये
    चाँद थाम ले हाथ अगर तो
    खिलते फूल पलाश के...

    Bahut sundar suraj ka jharne men aakar nahana,chandni ka phulon se veni sajana bahut bhaya...bahut saari shubkamnyen ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बादल
    पहने पायल डोलें
    पर्वत की चोटी पर
    हौले खोल किवाड़ झाँकती
    ऋतुएँ घर के अंदर
    धरा सुन्दरी की चूनर में
    टँकते फूल पलाश के
    मनभावन,वाह! क्या दृश्य दिखाया है शब्दों के माध्यम से.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।