11 जून 2011

९. जिस दिन पलाश जंगल में दहके

जिस दिन पलाश
जंगल में दहके
तुम आ जाना!

नववर्ष हर्ष उत्कर्ष
बहारों ने नापे!
हलदी वाले हाथों ने
दरवाजे छापे!

जिस दिन मौसम की गायक
कुहु कुहु कुहुके
तुम आ जाना!

सिल पर पिसते रंगत लाते
गहरे होते!
इंद्रधनुष जैसे
सपनो में ठहरे होते

जिस दिन मुंडेर पर
कोरी चूनर बहके
तुम आ जाना!

झरझर झरते रंग
झोंके रस गंधो के
जिस दिन ऊँची मेडों पर
किंशुक लहके
तुम आ जाना!

-निर्मला जोशी

4 टिप्‍पणियां:

  1. निर्मला जोशी जी के नवगीत '-जिस दिन पलाश जंगल में दहके'की इन पंक्तियों ने विशेष् रूप से प्रभावित किया-
    सिल पर पिसते रंगत लाते
    गहरे होते!
    इंद्रधनुष जैसे
    सपनो में ठहरे होते
    अन्तिम पंक्तियों में -किंशुक लहके में लहकना क्रिया का विशिष्ट प्रयोग नवगीत को और गहन बनाता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नवगीत अच्छा है,
    पर किसी प्रिय के आने के लिए
    इतनी शर्तें रख देना अच्छा नहीं लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  3. निर्मला जी का हर नवगीत सुंदर होता है। यह नवगीत भी बहुत सुंदर है। हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नववर्ष हर्ष उत्कर्ष
    बहारों ने नापे!
    हलदी वाले हाथों ने
    दरवाजे छापे!

    जिस दिन मौसम की गायक
    कुहु कुहु कुहुके
    तुम आ जाना!
    बहुत सुंदर
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।