22 जनवरी 2012

८. दिनकर तेरी ज्योत बढ़े

ज्यों दिन
तिल-तिल बढ़ते जाते
दिनकर तेरी ज्योत बढ़े

जाओ रानी
गठरी बाँधो
शीत ऋतु को किया इशारा
नियम तुम्हारा नित्य पुरातन
सदियाँ बीतीं तू नहीं हारा।
साँझ ढले कहीं और चल दिये
आ जाते हो
भोर पड़े

हर कोने से
सजी पतंगें
मुक्त गगन में लहराईं
तिल गुड की सोंधी मिठास
रिश्तों में अपनापन लाई
युवा उमंगें बढ़ीं सौ गुनी
ज्यों ज्यों ऊपर
डोर चढ़े

मकर प्रवेश
तुम्हारा सूरज
भाग्य कर्म का है लेखा
जोड़ घटा कर शेष बचा जो
कहलाए जीवन रेखा
बढ़ता चल मन आरोही
पग नए शिखर पर
आज पड़े

कल्पना रामानी
मुंबई से

22 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तम द्विवेदी22 जनवरी 2012 को 11:55 am

    कत्थ्य, विषय व लय हर तरह से एक सफल व सुंदर नवगीत के लिए कल्पना रामानी जी को बहुत-बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्तम जी,सुंदर टिप्पणी के लिए धन्यवाद।

      हटाएं
  2. मकर प्रवेश
    तुम्हारा सूरज
    भाग्य कर्म का है लेखा
    जोड़ घटा कर शेष बचा जो
    कहलाए जीवन रेखा
    बढ़ता चल मन आरोही
    पग नए शिखर पर
    आज पड़े

    सुंदर और सलोना नवगीत - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कान्त जी, बहुत बहुत धन्यवाद!

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. धर्मेन्द्र जी, बहुत बहुत धन्यवाद।

      हटाएं
  4. परमेश्वर फुँकवाल22 जनवरी 2012 को 8:08 pm

    बधाई कल्पना जी. बहुत सुन्दर एक सांस में पढ़ लेने वाला नवगीत.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत भावपूर्ण रचना| कल्पना जी,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मोहिनी जी आपका हार्दिक धन्यवाद।

      हटाएं
  6. विमल कुमार हेड़ा।23 जनवरी 2012 को 7:42 am

    मकर प्रवेश तुम्हारा सूरज भाग्य कर्म का है लेखा
    जोड़ घटा कर शेष बचा जो कहलाए जीवन रेखा
    बढ़ता चल मन आरोही पग नए शिखर पर आज पड़े
    अति सुन्दर, अच्छे नवगीत के लिये कल्पना जी को बहुत बहुत बधाई।
    धन्यवाद।
    विमल कुमार हेड़ा।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विमल कुमार जी, धन्यवाद आपका ।

      हटाएं
    2. मोहिनी जी, बहुत बहुत धन्यवाद!

      हटाएं
  7. नवगीत की सीमाओं में सहेजा समेटा सुदार गीत. बहुत बहुत बधाई.
    डाक्टर जयजयराम आनंद
    लास एंजीलिस अमेरिका

    उत्तर देंहटाएं
  8. नवगीत की सीमाओं में सहेजा समेटा सुदार गीत. बहुत बहुत बधाई.
    डाक्टर जयजयराम आनंद
    लास एंजीलिस अमेरिका

    उत्तर देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. रामकिशोर जी, हार्दिक धन्यवाद!

      हटाएं
  10. ज्यों दिन
    तिल-तिल बढ़ते जाते
    दिनकर तेरी ज्योत बढ़े

    इस सनातन कामना में ही धरती की जीवन्तता है. गीत दिल को छूता है. नवगीत में देशज शब्दों की उपस्थिति हो पाती तो मती का सौंधापन भी मिलता.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।